Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

प्रधानमंत्री ने बच्चों संग की परीक्षा पर चर्चा

प्रकाशित Thu, 14, 2019 पर 07:52  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब। कहावत अच्छी है लेकिन इसका भाव बड़ा दवाब बनाता है। खासकर एग्जाम के टाइम पर ऐसी बातें फायदे की जगह नुकसान कर सकती हैं। बोर्ड एग्जाम्स आने वाले हैं। इसलिए जानना जरूरी है कि घर में परीक्षा की तैयारियों के दौरान कैसा माहौल होना चाहिए। मां-बाप को बच्चों के साथ कैसे पेश आना चाहिए और बच्चों को भी किस तरह से पढ़ाई की तैयारी करनी चाहिए। ताकि बिना प्रेशर में आए, बिना किसी पैनिक के अच्छे से सवालों का सामना कर सकें।


रिजल्ट कैसा होगा इस बात की चिंता किए बिना एग्जाम कैसे देना है इस पर फोकस करना चाहिए। ये मुद्दा कितना अहम हैं इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी विषय पर बच्चों के साथ परीक्षा पे चर्चा की थी जिसमें उन्होने बच्चों को बहुत काम के टिप्स भी दिए।


परीक्षा पर चर्चा के दौरान छात्रों को प्रधानमंत्री मोदी का ये गुरु मंत्र उन मां-बाप के लिए है जिनके बच्चे एग्जाम देने वाले हैं। हालांकि इस बार बोर्ड एग्जाम्स 15 दिन पहले शुरु हो रहे हैं और दबाव से राहत देने के लिए बोर्ड के पैटर्न में बदलाव किये गये हैं।


सीबीएसई ने इस बार प्रश्नपत्र के पैटर्न में कई बदलाव किए हैं। इस बार ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्नों की संख्या 10 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी कर दी गई है। इसके अलावा इस बार 33 फीसदी प्रश्न विकल्प के तौर पर मौजूद होंगे। इसके अलावा इस बार छात्रों को ज्यादा व्यवस्थित प्रश्नपत्र मिलेगा। हर पेपर में कई सब सेक्शन्स में बंटे होंगे।


वैसे इस बार परीक्षा केंद्रों की सुरक्षा और पेपर लीक होने से बचाने कुछ कदम उठाए हैं जिनका ख्याल रखना भी जरूरी है। इस बार आधे घंटे पहले परीक्षा केंद्र पहुंचना अनिवार्य होगा और 10 बजे के बाद परीक्षा केंद्रों में एंट्री नहीं मिलेगी। सभी छात्रों को स्कूल यूनिफॉर्म में ही प्रवेश दिया जाएगा।


प्रवेश पत्र पर स्टूडेंट्स और प्रिंसिपल के साथ ही अभिभावकों के भी हस्ताक्षर जरूरी होंगे। परीक्षा के दौरान छात्र अपने साथ केवल पेन, प्रवेश पत्र और पारदर्शी बैग ही लेकर जा सकेंगे। किसी भी हालत में कोई लिखित सामग्री, मोबाइल, पर्स और स्मार्टवॉच ले जाने की इजाजत नहीं होगी।


तो अपने बच्चों की परीक्षा से घबराईये मत। उन्हे अच्छे नंबरो से पास होने के लिए जरूर कहिए। लेकिन उसके लिए उनपर दबाव ना डालकर उनकी मदद कीजिए।