Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

मुंबई में निजी अस्पतालों के 80% बेड रिजर्व रहेंगे, सरकारी रेट पर होगा इलाज

निजी अस्पतालों के बेड कोरोना संक्रमित और अन्य रोगियों के लिए निर्धारित संख्या में उपयोग किया जाएगा
अपडेटेड May 19, 2020 पर 16:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मुंबई में कोरोना का प्रसार रुकने का नाम नहीं ले रहा है और दिन प्रति दिन कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। महानगरपालिका ने भी इस संकट से लड़ने के लिए कमर कस ली है। बीएमसी आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने बताया कि कोरोना और अन्य प्रकार के मरीजों को ईलाज मुहैया कराने के लिए प्रशासन ने कड़ा निर्णय लिया है जिसके तहत अब मुंबई के निजी अस्पतालों को 80 प्रतिशत बेड आरक्षित रखना जरूरी होगा और उनके अस्पताल में ऐसे रोगियों को सरकार द्वारा निश्चित की गई दर पर मरीजों का ईलाज करना बंधनकारी होगा।


महाराष्ट्र टाइम्स की खबर के अनुसार बीएमसी ने सोमवार को निजी अस्पताल के निदेशकों के साथ बैठक की थी। बैठक में आयुक्त इकबाल सिंह चहल, अतिरिक्त आयुक्त संजीव जायसवाल, अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी, सह आयुक्त रमेश पवार, उपायुक्त चंद्रशेखर चोरे और निजी अस्पतालों के समन्वयक बॉम्बे हॉस्पिटल के डॉक्टर गौतम भंसाली के साथ मुंबई के विभिन्न निजी अस्पतालों के वरिष्ठ अधिकारी और प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।


दोनों प्रकार के ईलाज के लिए निजी अस्पतालों में चल रही कार्यवाही की सूचना संबंधितों द्वारा मनपा आयुक्त को दी गई। उन्होंने आयुक्त को बताया कि लॉकडाउन के कारण निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, चिकित्सा कर्मचारियों और अन्य कर्मचारियों को अस्पताल तक पहुंचने में मुश्किल हो रही है। अस्पतालों के प्रतिनिधियों ने आयुक्त को निजी अस्पतालों के स्तर पर आने वाली विभिन्न समस्याओं के बारे में भी बताया। महानगरपालिका इन समस्याओं को हल करने के लिए विभिन्न संभावित विकल्पों पर विचार करेगी ऐसा बीएमसी की तरफ से उन्हें आश्वस्त किया गया।


निजी अस्पतालों के बेड कोरोना संक्रमित और अन्य रोगियों के लिए निर्धारित संख्या में उपयोग किया जाएगा। इससे हृदय रोग या अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों को उचित चिकित्सा उपचार प्राप्त करने में मदद मिलेगी। उपचार खर्च के लिए शुल्क और संबंधित नियम और शर्तें सरकार द्वारा निर्धारित किए जा रहे हैं। इस संबंध में प्राप्त आदेशों के अनुसार तुरंत कार्रवाई की जाएगी ऐसा आयुक्त ने स्पष्ट किया।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।