Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

रेपो रेट में ऐतिहासिक कटौती, 0.75% घटकर 4.40% हुआ, CRR 1% घटकर 3% पर

रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि फिलहाल मार्केट में कैश फ्लो बनाए रखना जरूरी है
अपडेटेड Mar 29, 2020 पर 12:28  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फाइनेंस मिनिस्टर  निर्मला सीतारमण ने 26 मार्च को 1.7 लाख करोड़ के पीएम गरीब कल्याण पैकेज का ऐलान किया था। इसके ठीक एक दिन बाद RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी रेपो रेट में बड़ी कटौती कर दी है। दास ने रेपो रेट 0.75 फीसदी यानी 75 बेसिस अंक घटाकर 4.4 फीसदी कर दिया है।


RBI की मॉनेटरी पॉलिसी रिव्यू 3 अप्रैल को होने वाला था। लेकिन मौजूदा हालत को देखते हुए इसे जल्दी कर दिया गया। RBI गवर्नर ने कह, मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) ने 24, 25 और 26 मार्च को बैठक कर लिया ताकि रेट कट का ऐलान जल्दी हो सके।


इसके अलावा आरबीआई  ने REVERSE REPO दर 0.9 फीसदी घटाकर 4 फीसदी की है। कैश रिजर्व रेशियो (CRR) 1 फीसदी घटाकर 3 फीसदी कर दिया गया।


RBI गवर्नर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना के देखते हुए MPCने निर्धारित समय से पहले बैठक की है। 24-27 मार्च तक MPC की बैठक हुई जिसमें MPC ने 4:2 के अनुपात में रेट कटौती का फैसला लिया है। RBI ने ब्याज दरों यानी रेपो रेट में 0.75 फीसदी की कटौती करते हुए इसको  4.40 फीसदी कर दिया है। इसके साथ ही LAF यानी Liquidity Adjustment Facility में भी 0.9 फीसदी की कटौती करते हुए इसे 4 फीसदी कर दिया गया है। REVERSE REPO दर भी 0.9 फीसदी घटाकर 4 फीसदी किया  गया है।


RBI गवर्नर ने कहा कि हमारा फोकस फाइनेंशियल स्थिरता पर पर है। H2 में 4.4 फीसदी ग्रोथ हासिल करना चुनौतीपूर्ण रहेगा। कोरोना की वजह से मांग में काफी कमी आई है। कोरोना से ग्रोथऔर महंगाई अनुमानों में काफी बदलाव संभव है। मौजूदा समय जैसी अस्थिरता कभी नहीं देखी गई है। घरेलू इकोनॉमी को सुरक्षा देना समय की मांग है। जिसको ध्यान में रखते हुए लोन री-पेमेंट नियमों में ढील दी जा रही है। सभी बैंकों के CRR में 1 फीसदी तक कटौती की गई है। सभी बैंकों का CRR 1 फीसदी घटाकर 3 फीसदी  किया जा रहा है।


CRR में कटौती से  बैंकों को 1.37 लाख करोड़ रुपये मिलेंगे।  CRR में कटौती 1 साल के लिए लागू होगी। मार्जिन स्टेंडिंग फैसिलिटी कैप 2 फीसदी से बढ़कर 3 फीसदी की गई है। बैंक, NBFCs को सभी टर्म लोन पर 3 महीने का MORATORIUM मिलेगा। इसके साथ ही  नेट फंडिंग रेश्यो नियम को 6 महीने के लिए टाला जा रहा है। उन्होंने आगे कहा कि सिस्टम में पिछले MPC से अबतक 2.8 लाख करोड़ रुपये डाले गए हैं। भारतीय बैंकिंग सिस्टम सुरक्षित और मजबूत है। बैंकों ग्राहकों को चिंतित होने की जरुरत नहीं है। सुरक्षित रहिए और डिजिटल को बढ़ावा दीजिए।




रेपो रेट में कटौती पर PM मोदी ने Tweet करके कहा है कि RBI के कदम से लिक्विडिटी को बढ़ावा मिलेगा और  मिडिल क्लास को मदद मिलेगी। RBI के कदम से कारोबारियों को भी मदद मिलेगी।


Axis Bank के MD & CEO Amitabh Chaudhry ने RBI के आज के फैसले पर बात करते हुए कहा कि RBI ने बेहतर कदम उठाया है। CRR में कटौती से बैंकों के पास अतिरिक्त पूंजी आएगी। बैंक ग्राहकों को पूरी तरह से मदद करेंगे। जिन्हें MORATORIUM चाहिए उन्हें मुहैया कराएंगे।  ग्राहकों को तकलीफ है तो जरुर मदद करेंगे। लेकिन जो ग्राहक लोन चुका सकते हैं उन्हें चुकाना चाहिए। क्योंकि MORATORIUM का मतलब लोन और ब्याज से माफी नहीं है। MORATORIUM का मतलब कुछ समय के लिए राहत है। MORATORIUM लेने वालों को एक समय के बाद रकम और ब्याज दोनों चुकाना होगा।


NITI AAYOG VICE CHAIRMAN राजीव कुमार ने कहा कि सरकार की ओर से बड़े पैकेज की उम्मीद है। रिवर्स रेपो में कटौती काफी बेहतर कदम है। उनका कहना है कि रिवर्स रेपो में कटौती से बैंकों को लोन देने में मदद मिलेगी। उन्होंने बताया कि अगला कदम कॉरपोरेट के हित में उठाया जा सकता है। अगली राहत पैकेज MSMEsके पक्ष में संभव है।





सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।