Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

RBI के गवर्नर की NPA को लेकर चेतावनी का बाजार पर नहीं होगा खास असर: देवेन चोकसी

RBI गवर्नर ने NBFCs और म्युचुअल फंड की निगरानी की हिदायत भी दी है।
अपडेटेड Jul 12, 2020 पर 13:04  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोरोना संकट के बीच RBI गवर्नर शक्तिकांता दास ने बैंकों को आगाह किया है कि RBI ने कदमों से तात्कालिक तौर पर हालात सुधरे हैं लेकिन मध्यम अवधि का आउटलुक अनिश्चित हैं। उन्होने कहा कि कोरोना के कारण बैंकों के NPA में बढ़ोतरी हो सकती है इसलिए कैपिटल बफर बनाना जरूरी है। RBI गवर्नर ने NBFCs और म्युचुअल फंड की निगरानी की हिदायत भी दी है।  NBFCs पर Redemption प्रेशर का दबाव संभव है। SBI कॉन्क्लेव में RBI गवर्नर शक्तिकांता दास ने कहा की जोखिम की पहचान के लिए बैंकों को कोविड स्ट्रेस टेस्ट करना चाहिए। उन्होंने सरकारी बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन को भी जरूरी बताया।


SBI CONCLAVE में RBI गवर्नर शक्तिकांता दास कोरोना के कारण NPA में बढ़ोतरी का जिक्र करते हुए कहा कि महामारी की चुनौतियों से लड़ने के लिए बैंकों को रिस्क मैनेजमेंट पर फोकस करना होगा। कोरोना के कारण बैंकों को कैपिटल बफर बनाना जरूरी होगा। बैंकों को सही समय पर कैपिटल जुटाना होगा। इस संकट को देखते हुए। सरकारी, निजी बैंकों के लिए रीकैप प्लान जरूरी है।


RBI गवर्नर के बयान पर मार्केट एक्सपर्ट अजय बग्गा का कहना है कि मोरेटोरियम के कारण अभी NPA recognize नहीं हो रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि NPA नहीं होंगे। बैंकों की लोन बुक 100 लाख करोड़ की है। अगर 5-10 फीसदी NPA होते हैं तो बैंकों का पूरा कैपिटल खत्म हो जाएगा। अभी मोरेटोरियम के कारण NPA की पहचान नहीं हो रही है। 5-10 फीसदी NPA से बैंकों में पूंजी का संकट होगा।


K R Choksey के देवेन चोकसी का कहना है कि RBI के गवर्नर की NPA को लेकर चेतावनी का बाजार पर खास असर देखने को नहीं मिलेगा। मार्केट पॉजिटिव रहेगा,अच्छे शेयरों में निवेश करें। उनके मुताबिक ICICI Bank, Kotak Bank में निवेश के मौके हैं। गिरावट में अच्छे बैंकिंग शेयरों में निवेश करें।  देवेन चोकसी को HDFC, Bajaj Finance जैसे NBFCs भी पसंद हैं।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।