आरबीआईः दरों में बदलाव नहीं, रेपो रेट 6% पर कायम -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आरबीआईः दरों में बदलाव नहीं, रेपो रेट 6% पर कायम

प्रकाशित Wed, 07, 2018 पर 14:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सस्ते कर्ज की राह में एक बार फिर महंगाई रोड़ा बन गई है। रेपो रेट 6 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी पर बरकरार रखा है। कैश रिजर्व रेश्यो यानि सीआरआर भी 4 फीसदी पर बरकरार है। मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी यानि एमएसएफ दर को 6.25 फीसदी पर बरकररार रखा है।


हालांकि आरबीआई ने वित्त वर्ष 2018 के लिए जीवीए ग्रोथ का अनुमान घटा दिया है। आरबीआई ने वित्त वर्ष 2018 में जीवीए ग्रोथ का अनुमान 6.7 फीसदी से घटाकर 6.6 फीसदी किया है। वहीं, वित्त वर्ष 2019 में जीवीए ग्रोथ 7.2 फीसदी रहने का अनुमान जताया है। आरबीआई के मुताबिक अप्रैल-सितंबर 2018 के बीच रिटेल महंगाई दर 5.1-5.6 फीसदी रहने का अनुमान है। अक्टूबर 2018-मार्च 2019 के बीच रिटेल महंगाई दर 4.5-4.6 फीसदी रहने का अनुमान है। जनवरी-मार्च 2018 के बीच रिटेल महंगाई दर 5.1 फीसदी रहने का अनुमान है। लंबी अवधि के लिए 4 फीसदी के रिटेल महंगाई दर के लक्ष्य पर कायम हैं।


आरबीआई ने क्रेडिट पॉलिसी की रिपोर्ट में कहा है कि सिस्टम में सरप्लस लिक्विडिटी जारी रहेगी। अप्रैल से बेस रेट पर तय कर्ज को एमसीएलआर से जोड़ा जाएगा। जीएसटी रजिस्टर्ड छोटे-मझौले उद्योगों के लिए एनपीए नियम सरल होंगे।


आरबीआई को लगता है कि आगे महंगाई की आग भड़केगी। हालांकि वो वित्त वर्ष 2019 की दूसरी छमाही में महंगाई के कम होने की भी बात कर रहा है। वहीं रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल ने दबे शब्दों में ही सही लेकिन लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स को निवेश बढ़ाने के लिए गलत बताया। उर्जित पटेल ने कहा कि कैपिटल पर अभी 5 तरह के टैक्स लगते हैं। इतने सारे टैक्स निवेश के फैसले पर असर डालते हैं।


इक्रा की प्रिंसिपल इकोनॉमिस्ट अदिति नायर का कहना है कि महंगाई को लेकर आरबीआई बहुत परेशान नहीं दिख रहा है इसलिए फिलहाल दरें बढ़ने का खतरा टलता दिख रहा है। देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने भी आरबीआई की पॉलिसी का स्वागत किया है। एसबीआई के एमडी, पी के गुप्ता ने कहा है कि एमएसएमई सेक्टर को राहत देने का फैसला अच्छा है।