Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पढ़िए क्रिप्टोकरेंसी पर फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण का बड़ा बयान!

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने कहा कि कई देश क्रिप्टोकरेंसी अपनाने में सावधानी बरत रहे हैं।
अपडेटेड Oct 21, 2019 पर 12:36  |  स्रोत : Moneycontrol.com

International Monetary Fund (IMF) की सालाना मीटिंग में फेसबुक की लिब्रा पर चर्चा चल रही थी। इस चर्चा के दौरान देश की फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने में कई देश बच रहे हैं। हालांकि फाइनेंस मिनिस्टर के पहले आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास क्रिप्टो करेंसी पर अपनी राय जाहिर कर चुके थे। फाइनेंस मिनिस्टर ने कहा कि इस बारे में Reserve Bank of India (RBI) के गर्वनर ने पहले ही सबकुछ बता दिया है। मुझे ऐसा लग ररहा है कि क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने में कई देश बच रहे हैं।


इस बैठक में IMF की मैनेजिंग डायरेक्टर क्रिस्टीना जार्जीवा ने कहा कि इस डिजिटल करेंसी के फायदे और इसके जोखिम के बारे में चर्चा चल रही है।


जानिए क्या है क्रिप्टोकरेंसी


किसी भी देश में लेनदेन के लिए जो नोट और सिक्के चलन में होते हैं उन्हें करेंसी कहते हैं। करेंसी या तो कागज की होती है या किसी धातु की। जैसे भारत में रुपये के नोट और सिक्के चलते हैं। क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी होती है, जो कंप्यूटर एल्गोरिदम पर आधारित है। यह स्वतंत्र मुद्रा है जिसका कोई मालिक नहीं है। सबसे पहले क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत 2009 में हुई थी। बिटकॉइन, नेमकाइन, लाइटकाइन और पीपीकाइन। इस तरह की वर्चुअल करेंसी को क्रिप्टोकरेंसी कहा जाता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।