Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आज आएगा राहत पैकेज-3, फिशरीज सेक्टर को मिल सकते हैं ₹20 हजार करोड़, इंफ्रा सेक्टर पर भी होगा फोकस

CNBC-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक फिशरीज सेक्टर को करीब 20 हजार करोड़ का पैकेज मिल सकता है।
अपडेटेड May 15, 2020 पर 15:58  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज राहत पैकेज-3 में वित्त मंत्री अलग-अलग सेक्टर को रियायत का एलान कर सकती हैं। CNBC-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक फिशरीज सेक्टर को करीब 20 हजार करोड़ का पैकेज मिल सकता है।  इंफ्रा सेक्टर पर भी  खास फोकस होगा।


गौरतलब है कि राहत पैकेज की दूसरी किस्त में किसान, प्रवासी मजदूर, स्ट्रीट वेंडर्स और अफोर्डेबल हाउसिंग पर फोकस रहा। लेकिन आज नजर होगी राहत पैकेज की तीसरी किस्त पर। CNBC-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक पैकेज-3 में फिशरीज और इंफ्रा सेक्टर को बूस्टर देने पर फोकस रह सकता है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक पैकेज-3 में सेक्टोरल राहत पैकेज की घोषणा हो सकती है। इस पैकेज में फिशरीज सेक्टर के लिए विशेष पॉलिसी के तहत मत्स्य संपदा योजना का ऐलान हो सकता है। इसके लिए 2020-21 से 2021-25 तक करीब 20,000 करोड़ का आवंटन संभव है। आज आने वाले राहत पैकेज में मरीन एंड डीप सी फिशिंग, मेरीकल्चर, सीवुड फार्मिंग पर जोर हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक इसमें इनलैंड फिशरीज, एक्वाकल्चर, कोल्ड वाटर फिशरीज भी शामिल होगा।


सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक  राहत पैकेज-3 में वित्त मंत्री इंफ्रा सेक्टर के लिए भी बड़े एलान कर सकती हैं। आज के एलानों में इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन को बढ़ावा देने पर जोर होगा इसके साथ ही सेक्टोरल रिफॉर्म पर भी आने वाली किस्तों में एलान होगा।


बता दें कि कल आए पैकेज 2  किसान, प्रवासी मजदूर, स्ट्रीट वेंडर्स पर फोकस था। इसमें 2 लाख करोड़ का किसान क्रेडिट देने का एलान किया गया। इसके लिए 2.5 करोड़ किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड दिए जाने की योजना रखी गई। अफोर्डेबल हाउसिंग स्कीम 1 साल के लिए बढ़ा दिया गया। अफोर्डेबल हाउसिंग स्कीम में 70,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया। प्रवासी मजदूरों को 2 महीने तक मुफ्त राशन का एलान हुआ। प्रवासी मजदूरों को मुफ्त राशन पर 3500 करोड़ खर्च आने का अनुमान है। फ्री अनाज का पूरा खर्च केंद्र सरकार उठाएगी।





सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।