Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

मंदी से परेशान टेक्सटाइल सेक्टर के लिए राहत पैकेज की तैयारी!

मंदी से परेशान टेक्सटाइल और गारमेंट इंडस्ट्री को राहत देने की तैयारी है।
अपडेटेड Sep 03, 2019 पर 13:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मंदी से परेशान टेक्सटाइल और गारमेंट इंडस्ट्री को राहत देने की तैयारी है। सीएनबीसी-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक कच्चे माल पर जीएसटी घटाने और बुनाई सेक्टर के लिए के लिए बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक कच्चे माल के सस्ते इंपोर्ट की भरपाई के लिए GST घटाने पर विचार किया जा रहा है। सिंथेटिक यार्न और मैनमेड फाइबर पर जीएसटी 18 फीसदी से घटाकर 12 फीसदी करने की सिफारिश की गई है। वहीं यार्न पर इंपोर्ट ड्यूटी 5 फीसदी से बढ़ाकर 10 फीसदी करने पर विचार किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक RoSCTL यानी रीबेट ऑफ स्टेट एंड सेंट्रल टैक्स एंड लेवीज मार्च 2020 के बाद भी जारी रखा जा सकता है। बुनाई वाले सेगमेंट में भी RoSCTL लागू हो सकता है।


सूत्रों के मुताबिक बुनाई सेक्टर के लिए शट्ल लेस लूम लगाने के लिए खास स्कीम शुरू की जा सकती है। हाई स्पीड शट्ल लेस लूम लगाने के लिए टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन फंड से सब्सिडी 10 फीसदी से बढ़ाकर 15 फीसदी किया जाने और बांग्लादेश से होने वाले इंपोर्ट पर रूल ऑफ ऑरिजीन लागू किये जाने की मांग की जा रही है। बता दें कि बांग्लादेश से चीन में बने गारमेंट और टेक्साइल सस्ते में इंपोर्ट हो रहा है। इसके अलावा नीति आयोग ने इस सेक्टर के लिए मेगा कलस्टर बनाये जाने की भी सिफआरिश की है। नीति आयोग ने टेक्सटाइल सेक्टर के लिए ये प्रस्ताव तैयार कर लिए हैं। इनका प्रधानमंत्री कार्यालय में प्रेजेंटेशन भी हो चुका है। सूत्रों के मुताबिक सचिवों के समूह को प्रस्ताव को अंतिम रूप देने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।