Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कर्जदारों को राहत, Union Bank और PNB ने घटाई दरें

RBI द्वारा कटौती किये जाने के बाद यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने रेपो आधारित कर्ज की दरों में कटौती की है।
अपडेटेड Jun 03, 2020 पर 10:39  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारतीय रिजर्व बैंक ने कोरोना संकट के चलते लगाये गये लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए ब्याज दर में कटौती की है जिसका फायदा ग्राहकों को मिलता दिख रहा है। RBI द्वारा कटौती किये जाने के बाद यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने रेपो आधारित कर्ज की दरों में कटौती की है। जिससे कर्जदारों को आरबीआई के फैसले का लाभ मिल सकेगा।


रिजर्व बैंक द्वारा कटौती किये जाने के पश्चात यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने रेपो आधारित कर्ज की दर में कमी की है। यूनियन बैंक ने एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट (EBLR) में 0.40 प्रतिशत की कटौती की है। इस कटौती के बाद नई दर 6.80 प्रतिशत हो गई है। ये नई दरें सोमवार से लागू हो गई हैं। एमएसएमई उद्योग को कर्ज देने के लिए यूनियन बैंक EBLR के आधार पर ब्याज दर से वसूली करती है।


दूसरी तरफ पंजाब नेशनल बैंक ने आरएलएलआर में 0.40 प्रतिशत की कटौती की है। इसकी वजह से कर्जदारों के ब्याज की दर 7.05 प्रतिशत से घटकर 6.65 प्रतिशत पर आ गई है। इसी तरह बैंक ने एमसीएलआर दर 0.15 प्रतिशत घटाई हैं जिसके कारण कर्जदारों के लोन के हफ्ते या लोन की अवधि कम करने में मदद मिल सकेगी।


कोरोना संकट के दौरान आरबीआई गर्वनर शक्तिकांता दास ने तीसरी बार प्रेस कॉन्फ्रेंस की और 22 मई को रेपो रेट में 0.40 प्रतिशत की कटौती की। जिसके बाद बैंकों का रेपो रेट 4 प्रतिशत हो गया। इसके कारण होम लोन, वाहन लोन और बिजनेस लोन सस्ता होने का रास्ता साफ हो गया। महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक इसके पहले मार्च अप्रैल और मई इन 3 महीनों के लिए कर्ज वसूली को स्थगित (EMI Moratorium) करने की सुविधा दी गई थी और बाद में इसे और बढ़ाते हुए जून, जुलाई और अगस्त तक कर्ज वसूली पर रोक लगा दी गई है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।