Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पावर जेनरेशन कंपनियों को राहत मिली, फंडिंग के लिए बैंक तैयार

थर्मल पॉवर प्लांट के मॉडर्नाइजेशन के लिए लोन पर सहमति बनने से 1 लाख 66 हज़ार मेगावॉट के प्रोजेक्ट को फायदा होगा।
अपडेटेड Oct 23, 2019 पर 09:47  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पावर जेनेरेशन कंपनियों को बड़ी राहत मिली है। CNBC-आवाज़ को सूत्रों से मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक थर्मल पॉवर प्लांट के मॉडर्नाइजेशन के लिए बैंक फंडिंग करने को तैयार हो गए हैं। हालांकि उन पावर प्लांट को लोन नहीं मिलेगा जिनके पास PPA या कोल सप्लाई नहीं है। सूत्रों के मुताबिक थर्मल पॉवर प्लांट के मॉडर्नाइजेशन के लिए दस सरकारी लोन देंगे। ऊर्जा मंत्रालय, जनरेशन कंपनियों और बैंकों के बीच इस पर सहमति बन गई है। कल हुई बैठक में तीनों पक्षों के बीच सहमति बनी है। हालंकि NPA हो चुके पावर प्लांट को लोन नहीं मिलेगा। लोन के लिए PPA, कोल सप्लाई करार जरूरी होगा। इस पहल से Adani Power, JSPL, GMR, GVK, Tata Power को फायदा होगा।


थर्मल पॉवर प्लांट के मॉडर्नाइजेशन के लिए लोन पर सहमति बनने से 1 लाख 66 हज़ार मेगावॉट के प्रोजेक्ट को फायदा होगा। इनमें निजी कंपनियों के 60 हज़ार मेगावॉट के प्रोजेक्ट हैं। इस स्कीम के तहत प्रति मेगावॉट के हिसाब से 50-80 लाख रुपये का लोन मिलेगा। हालांकि प्लांट कॉस्ट बढ़ने से बिजली की दरों में 60-90 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से बढ़ोतरी होगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।