Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ट्रेड वॉर और कश्मीर मामले की वजह से रुपये में 6 साल की सबसे बड़ी गिरावट

अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर और कश्मीर मामले की वजह से रुपये बड़ी गिरावट आई है।
अपडेटेड Aug 06, 2019 पर 11:19  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 और 35 A के बाद इसका सीधा असर इंडियन मार्केट पर पड़ा है। अमेरिका चीन ट्रेड वार और कश्मीर मामले के चलते भारतीय रुपये 6 सितंबर 2013 के बाद अब तक की सबसे बड़ी गिरावट देखी गई है। उधर वैश्विक संकेतों जैसे कि चीनी युआन और अन्य उबरते बाजारों (ईएम) की मुद्राओं में भारी गिरावट के साथ उसको बचाने के किए गए उपायों से भारतीय रुपये में बड़ी गिरावट आई है। इसके अलावा जम्मू कश्मीर में 370 हटाने से कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा छिन गया है। साथ ही विदेशी निवेशक भी तेजी से रकम निकाल रहे हैं।



डॉलर के मुकाबले आज रुपया 70.80 के स्तर पर खुला। पिछले कारोबारी दिन यानी कल डॉलर के मुकाबले रुपया 70.74 के स्तर पर बंद हुआ था।


कोटक सिक्योरिटीज के सीनियर करेंसी एनलिस्ट अनिंद्य बनर्जी का कहना है कि अमेरिकी –चीन ट्रेड वाप और चीनी युआन में में गिरावट के चलते भारतीय रुपये कमजोर हुआ है। इसके अलावा धारा 370 हटाने और घरेलू राजनीतिक तनाव का खामियाजा रुपये को भुगतना पड़ा है। उधर एफआईआई ने इक्विटी सेगमेंट में 2,000 करोड़ रुपये की बिक्री की है। इसके अलावा बाजार के पर्यवेक्षकों ने रुपये को गिरावट से बचाने के लिए केंद्रीय बैंक से अपील की है।



आपको बता दें कि आरबीआई रुपये को स्थिर रखने के लिए अमेरिकी डॉलर को खरीदने या बेचने के लिए हस्ताक्षेप कर सकता है।