Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

SBI का लोन सस्ता लेकिन आपके FD पर भी अब कम मिलेगा ब्याज

देश के सबसे बड़े बैंक ने MCLR में 0.35 फीसदी की कमी की है
अपडेटेड Apr 08, 2020 पर 15:49  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस (Coronavirus) की मार आर्थिक रूप से भी पड़ी है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने देश को आर्थिक रूप से सपोर्ट करने के लिए कई कदम उठाए हैं। इस बीच अगर आपका अकाउंट देश के सबसे बड़े बैंक State Bank of India (SBI) में है तो आपको बैंक ने झटका दे दिया है। साथ ही बैंक ने तोहफा भी दिया है।


SBI ने सेविंग अकाउंट्स पर ब्याज दर में 0.25 फीसदी की कटौती करके 2.75 फीसदी कर दिया है। इस कटौती से अनुमान जताया जा रहा है कि बैंक को 2,800 करोड़ रुपये की बचत होगी। हाल ही में CRR में कटौती करने से बैंक को 31,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त लिक्विडिटी मिली है। ऩए बदलाव के तहत अब ग्राहकों को सेविंग अकाउंट में एक लाख रुपये की जमा राशि पर 3 फीसदी की जगह 2.75 फीसदी सालाना ब्याज मिलेगा। बैंक ने एक बयान में कहा कि बैंकों के पास पर्याप्त नकदी होने की वजह से यह फैसला लिया गया है। ये नई ब्याज दरें 15 अप्रैल से लागू होंगी।


इसके साथ ही बैंक ने ग्राहकों को तोहफा देते हुए Marginal cost of funds-based lending rate (MCLR) में 0.35 फीसदी की कटौती कर दी है। जो कि 10 अप्रैल से लागू हो जाएगी। नई कटौती के बाद एक साल के लिए MCLR सालाना 7.75 फीसदी से घटकर 7.40 फीसदी हो गया है। बैंक ने कहा कि इससे 30 साल के लिए होम लोन की मासिक EMI एक लाख रुपये लोन पर 24 रुपये कम हो जाएगी।


क्या है MCLR


MCLR यानी Marginal cost of funds-based lending rate के तहत बैंक अपने फंड की लागत के हिसाब से लोन की दरें तय करते हैं। ये बेंचमार्क दर होती है। इसके बढ़ने से बैंक से लिया गया लोन महंगा हो जाता है। वहीं MCLR घटने पर लोन की EMI कम हो जाती है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।