Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

दवा पर लिखा होगा उसका साइड इफेक्ट

प्रकाशित Sat, 20, 2019 पर 14:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अब दवाओं के पैकेट पर उनके साइड इफेक्ट्स लिखे हुए आएंगे। दवाओं के दुष्प्रभावों पर एक शोध के बाद केंद्रीय ड्रग कंट्रोल विभाग ने फार्मा कंपनियों को ये आदेश दिया है। इंडियन फार्माकोपिया कमिशन के वैज्ञानिकों ने दवाओं पर शोध कर पता लगाया है कि एंटीबायोटिक्स और डिप्रेशन, आर्थराइटिस जैसी बीमारियों की दवाइयों के साइड इफेक्ट काफी नुकसानदेह होते हैं। इस शोध के आधार पर ड्रग कंट्रोलर ने मेडिसिन बनाने वाली कंपनियों को दवाओं के पैकेट पर दवा से होने वाले साइड इफेक्ट्स लिखने का आदेश दिया हैं। ताकि दवाओं के इस्तेमाल में लोग सावाधानी बरतें।


केंद्रीय ड्रग कंट्रोलर ने नो योर मेडिसिन मुहिम के तहत 7 तरह की मेडिसिन और उनसे बनने वाले सैकड़ों ब्रांड्स को लेकर जागरुकता फैलाने की तैयारी की है। उदाहरण के लिए सेफोटैक्सिम, सेफीएग्जाइम जैसी एंटीबॉयोटिक्स खाने से स्किन एलर्जी, त्वचा में सूजन जैसी दिक्कते हो सकती हैंI इसके अलावा मेंसुरेशन ब्लीडिंग नियंत्रण और डिप्रेशन में खाने वाली कई दवाओं से चक्कर आना साथ ही इंफेक्शन जैसी दिक्कतें हो सकती हैंI इसी तरह आर्थराइटिस, मिर्गी और माइग्रेन की कुछ दवाओं से त्वचा की तकलीफें हो सकती हैं। फिलहाल ये जिम्मेदारी आपकी भी है और अगर आप भी ऐसी मेडिसिन का इस्तेमाल करते हैं तो दवा खरीदने से पहले उससे होने वाले नुकसान के बारे में जान लेंI


दवा खाने से बीते 5 सालों में देश में साइडइफेक्ट्स और एडवर्स इंवेट्स के मामलों में 150 फीसदी तक बढ़े हैं। साल 2013 में सिर्फ 28 हजार शिकायत साल 2017 तक 71 हजार तक पहुंच गई हैं। यह वह मामले हैं जो रिपोर्ट किए गए हमसे आपसे जुड़े न जाने कितने ऐसे मामले होंगे जिसे रिपोर्ट करने की जहमत न मरीज उठाता है न डॉक्टरI