Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

स्टार्टअप्स: कैसा रहा साल 2018, कैसा रहेगा 2019

प्रकाशित Sat, 05, 2019 पर 15:02  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सरकार ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पर फोकस कर रही है लेकिन स्टार्टअप इंडिया की जमीनी हकीकत कुछ और ही है। लोकल सर्किल्स के सर्वे में ये बात सामने आई है कि साल 2018 में स्टार्टअप्स एंजेल टैक्स से परेशान रहे और भ्रष्टाचार, जीएसटी ने भी उनकी दिक्कतें बढ़ाई। ऐसे में साल 2019 में भी उनके सामने कई चैलेंज रहने वाले हैं।


लोकल सर्किल्स के सर्वे के मुताबिक स्टार्टअप्स एंजेल टैक्स से परेशान हैं। 32 फीसदी स्टार्टअप्स को कई बार टैक्स नोटिस मिले हैं। इनकम टैक्स अफसरों को वैलुएशन समझने की जरूरत है। 97 फीसदी स्टार्टअप्स का मानना है कि इनटैक्स अफसरों को स्टार्टअप को लेकर ट्रेनिंग दी जानी चाहिए। 2019 में स्टार्टअप के लिए सबसे बड़ा चैलेंज भ्रष्टाचार रहेगा। 45 फीसदी स्टार्टअप्स का मानना है कि भ्रष्टाचार ग्रोथ में एक बड़ी परेशानी है। फंडिंग 2019 का दूसरा बड़ा चैलेंज रहेगा।


इस सर्वे में शामिल 82 फीसदी स्टार्टअप्स का मानना है कि स्टार्टअप इंडिया मिशन का फायदा नहीं मिल रहा है। स्टार्टअप्स के प्रति राज्यों के व्यवहार में बदलाव नहीं आया है। 33 फीसदी स्टार्टअप्स का मानना है कि राज्यों ने कारोबार करने को पहले से भी मुश्किल बना दिया है। सिर्फ 14 फीसदी स्टार्अप्स ने माना कि राज्यों में कारोबार करना आसान हुआ है।


44 फीसदी स्टार्टअप्स को जीएसटी से नुकसान हुआ है। 35 फीसदी स्टार्टअप्स को जीएसटी से फायदा हुआ है। 2019 में स्टार्टअप्स कारोबार बढ़ाएंगे। 71 फीसदी स्टार्टअप्स ने 2019 के लिए ग्रोथ का प्लान बना लिया है। इस सर्वे से पता चलता है कि 2018 के मुकाबले 2019 में ज्यादा स्टार्टअप बंद होंगे। 2018 में 11 फीसदी के मुकाबले 2019 में 24 फीसदी स्टार्टअप होंगे बंद होंगे।