Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, रथ यात्रा की इजाजत दी तो भगवान जगन्नाथ माफ नहीं करेंगे

कोविड-19 महामारी की वजह से सुप्रीम कोर्ट ने इस साल की वार्षिक जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा पर रोक लगा दी है
अपडेटेड Jun 19, 2020 पर 10:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोविड-19 महामारी की वजह से सुप्रीम कोर्ट ने इस साल की वार्षिक जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा पर रोक लगा दी है। ये यात्रा 23 जून को होने जा रही थी। चीफ जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस एएस बोपन्ना की पीठ ने गुरुवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि लोकहित और आम लोगों  की सुरक्षा को देखते हुए इस साल रथ यात्रा की इजाजत नहीं दी जा सकती । 


इस आदेश में चीफ जस्टिस ने कहा, यदि हमने इस साल हमने रथ यात्रा की इजाजत दी तो भगवान जगन्नाथ हमें माफ नहीं करेंगे। महामारी के दौरान इतना बड़ी भीड़ की इजाजत नहीं दी जा सकती हैं। इस पीठ ने ओडिशा सरकार से यह भी कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए राज्य में कहीं भी यात्रा, तीर्थ या इससे जुड़ी गतिविधियों मंजूरी न दी जाये।


बता दें कि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए ओडिशा विकास परिषद नाम के एक NGO ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी और इस साल रथ यात्रा पर रोक लगाने की मांग की थी। पुरी में हर साल रथ यात्रा बड़े धूमधाम से आयोजित होता है। इससे जुड़े कार्यक्रम 10-12 दिनों तक चलते हैं और पूरी दुनिया से आए लाखों श्रद्धालु इसमें शामिल होते हैं। ओडिशा में अब तक 4338 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। यहां अब तक 11 लोगों की जान गई है। राज्य में 3047 लोग रिकवर हो चुके हैं, जबकि 1280 एक्टिव केस हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।