Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आवाज़ ओवरड्राइव: नई फोर्ड एस्पायर की टेस्ट ड्राइव

प्रकाशित Sat, 13, 2018 पर 17:12  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज हम चलते हैं नई फोर्ड एस्पायर की टेस्ट ड्राइव पर। फोर्ड एस्पायर को बोल्ड लुक देने के लिए ही सामने ब्लैक बम्पर है और ये आपको इस गाड़ी के रियर में भी दिखेगा। रियर में टेल लैंप को भी नया डिजाइन दिया गया है। एस्पायर इन बदलावों के साथ पहले से बहुत अलग तो नहीं दिखती लेकिन थोड़ी बेहतर जरूर दिखती है। एस्पायर के टॉप वेरिएंट टाइटेनियम प्लस में 15 इंच के एलॉए व्हील्स दिए गए हैं जो देखने में तो अच्छे हैं ही, ड्राइव भी बेहतर बनाते हैं।


गाड़ी के अंदर बेज और ब्लैक इंटीरियर हैं जो कि बेहतर स्पेस का सेंस देते हैं। सीट्स पर कुशनिंग अच्छी है, जिससे आपकी यात्रा आरामदेह रहती है। डैश बोर्ड  का लुक पुरानी एस्पायर जैसा ही है, लेकिन अब टॉप वेरिएंट में 6.5 इंच का बड़ा फ्लोटिंग टच स्क्रीन है जो कि सिंक 3 टेक्नॉलोजी के साथ एंड्राइड ऑटो और एप्पल कार प्ले के जरिए फोन कनेक्टक करना आसान बना देता है। इसमें इमरजेंसी असिस्टेंस भी है। सेफ्टी फोर्ड के लिए काफी अहम है और इस गाड़ी के टॉप वेरिएंट में 6 एयर बैग्स मिलते हैं और 2 फ्रंट एयर बैग्स स्टैंडर्ड हैं। सभी वेरिएंटस् में रियर पार्किंग सेंसर हैं और टॉप वेरिएंट में रियर पार्किंग कैमरा भी है।


फोर्ड ने अब एस्पायर में आपना नया 1.2 लाटर पेट्रोल इंजन इंट्रोड्यूस किया है। इसमें आपके पास तीन इंजन ऑप्शन हैं। पेट्रोल में ही आपको एक और इंजन का ऑप्शन मिलता है और वो है 1.5 टीआई वीसीटी इंजन है और ये आपको मिलेगा 6 स्पीड ऑटोमेटिक गियर बॉक्स के साथ। यानी अगर आप ऑटोमेटिक एस्पायर खरीदना चाहते हैं, तो आपको 1.5 लीटर इंजन खरीदना होगा जो कि 123 पीएस पावर और 150 एनएम का टॉर्क देता है।


फोर्ड एस्पायर का माइलेज भी बुरा नहीं है, जहां पेट्रोल मैन्युअल 20.4 किमी प्रति लीटर और ऑटोमैटिक 16.3 किमी प्रति लीटर का वहीं डीजल 26.1 किमी प्रति लीटर का क्लेम्ड माइलेज है। एस्पायर को पसंद करने के दो कारण हैं, पहला सेफ्टी पर फोकस और दूसरा है कीमत। कंपनी ने फेस लिफ्ट  एस्पायर पहले से भी कम कीमत पर लांच कर सबको चौंका दिया है। जहां पहले वाली एस्पायर की कीमत 5.8 लाख से शुरू होती थी वहीं नई  एस्पायर पेट्रोल की एक्स शोरूम कीमत शुरू होती है 5 लाख 55 हजार से और जाती है 7.25 लाख तक वहीं डीजल की कीमत 6.5 लाख से शुरू होकर 8 लाख 14 हजार रुपये तक जाती है। इसके साथ ही फोर्ड 5 साल की वारंटी भी दे रहा है और दावा है कि पहले 1 लाख किलोमीटर तक सर्विस कॉस्ट पेट्रोल के लिए अड़तीस पैसे और डीजल के लिए 45 पैसे प्रती किलोमीटर आएगी। तो लगता है कि फोर्ड ने समझ लिया है कि भारतीय कस्टमर को लुभाना है तो उसकी जेब का ख्याल जरूर रखना है।