Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

मशीनें कर लेंगी कब्जा, खतरे में आपकी नौकरी!

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की रिसर्च के मुताबिक 2025 तक ऑफिस का 52 फीसदी काम रोबोट या मशीनें करेंगी।
अपडेटेड Sep 19, 2018 पर 09:50  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आप ऑफिस में हैं और आपके बगल वाली सीट पर रोबोट बैठकर काम करने लगे तो जरूर हैरानी होगी। लेकिन आज से सिर्फ 7 साल बाद यानि 2025 में ऑफिस का ज्यादातर काम मशीनें करेंगी। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की रिसर्च के मुताबिक 2025 तक ऑफिस का 52 फीसदी काम रोबोट या मशीनें करेंगी और इंसानों के जिम्मे सिर्फ 48 फीसदी काम होगा। रोबोट के आने से डेटा एंट्री क्लर्क, अकाउंटिंग क्लर्क जैसे वाइट कॉलर जॉब्स खत्म होने की आशंका है।


अगर ये सारी बातें आपको चौंका रही है तो आपको जरूर चौंकना चाहिए क्योंकि ये आपके और आपके बच्चों दोनों के भविष्य का सवाला है। तो इस रिपोर्ट को कितनी हकीकत माने और कितना फसना इस पर बात करने के लिए सीएनबीसी-आवाज़ साथ मौजूद हैं दो खास महेमान नेस्कॉम के पूर्व वाइस चेयरमैन और सीईओ गणेश नटराजन और टीमलीज के बिजनेस हेड बीएफएसआई अमित वढेरा।


वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की रिसर्च के मुताबिक 2025 तक ऑफिस का 52 फीसदी काम मशीनें संभालेंगी। इंसानों के जिम्मे होगा सिर्फ 48 फीसदी काम होगा। अभी फिलहाल मशीनें 29 फीसदी काम कर रही हैं। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का द फ्यूचर ऑफ जॉब्स 2018 नाम का ये सर्वे 300 कंपनियों के 1.5 करोड़ कर्मचारियों पर किया गया है जिसके मुताबिक नई टेक्नोलॉजी आने से करोड़ों नई नौकरियां मिलेंगी। 5 साल में 5.8 करोड़ नई नौकरियां मिलेंगी। अब आप डेटा ऐनालिस्ट, साइंटिस्ट, सॉफ्टवेयर ऐप डेवलेपर्स बनें। ई-कॉमर्स स्पेशलिस्ट, सोशल मीडिया स्पेशलिस्ट की पढ़ाई करें। आगे कस्टमर सर्विस वर्कर्स, इनोवेशन मैनेजर की मांग बढ़ेगीसेल्स-मार्केटिंग प्रोफेशनल्स की मांग बढ़ेगी।