Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

थोक महंगाई के मोर्चे पर राहत, अप्रैल में घटकर 3.07%

प्रकाशित Tue, 14, 2019 पर 12:07  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अप्रैल में थोक महंगाई के मोर्चे पर सरकार को राहत मिलती दिखी है। रिटेल महंगाई 6 महीने के ऊंचाई पर है, लेकिन थोक महंगाई दर में गिरावट आई है। थोक महंगाई घटने में सबसे बड़ा हिस्सा रहा है फ्यूल और पावर WPI में गिरावट लेकिन फ्यूल, पावर को छोड़ दें तो खाद्य सामान, दालों, सब्जियों और प्राइमरी आर्टिकल की थोक महंगाई दर में बढ़त हुई है। महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में थोक महंगाई दर मार्च के 3.18 फीसदी से घटकर 3.07 फीसदी पर आ गई है।


अप्रैल में खाने-पीने की चीजे महंगी हुई है। खाने- पीने की चीजों की थोक महंगाई दर मार्च के 3.89 फीसदी से बढ़कर 4.98 फीसदी पर पहुंच गई है। वहीं प्राइमरी आर्टिकल्स की थोक महंगाई दर पिछले महीने के 5.07 फीसदी से बढ़कर 6.50 फीसदी रही है जबकि इसी अवधि ईंधन और बिजली की थोक मंहगाई दर पिछले महीने की 5.41 फीसदी के घटकर 3.84 फीसदी रही है।


अप्रैल में मैन्युफैक्चर प्रोडक्ट्स की थोक मंहगाई में कमी देखने को मिली है। मार्च में मैन्युफैक्चर प्रोडक्ट्स की थोक मंहगाई पिछले महीने के 2.16 फीसदी से घटकर 1.72 फीसदी रही है। वहीं नॉन फूड आर्टिकल्स की मंहगाई दर पिछले महीने के 2.83 फीसदी से बढ़कर 5.23 फीसदी रही है।


महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में सब्जियों की थोक मंहगाई में भारी बढ़ोत्तरी देखने को मिली है। अप्रैल में सब्जियों की थोक मंहगाई दर 28.13 फीसदी से बढ़कर 40.65 फीसदी पर पहुंच गई है। महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में अंडा, मांस और मछली की थोक मंहगाई 5.86 फीसदी से बढ़कर 6.94 फीसदी पर आ गई है।


वहीं अप्रैल में दालों की थोक मंहगाई दर पिछले महीने के 10.63 फीसदी से बढ़कर 14.32 फीसदी पर पहुंच गई है जबकि आलू की थोक मंहगाई पिछले महीने के 1.30 के मुकाबले -17.15 फीसदी और प्याज की थोक मंहगाई दर -31.34 फीसदी के मुकाबले -3.43 फीसदी पर पहुंच गई है।