Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आज की कुछ अन्य अहम खबरें जिनसे हरगिज न चूके नजर

फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो के बाद अब स्विगी ने भी अपने कर्मचारियों की छंटनी का फैसला लिया। कंपनी 1100 कर्मचारियों को निकाल रही है।
अपडेटेड May 19, 2020 पर 10:52  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोरोना संकट के कारण हुई छंटनी, स्विगी ने 1100 कर्मचारियों को निकाला


फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो के बाद अब स्विगी ने भी अपने कर्मचारियों की छंटनी का फैसला लिया। कंपनी 1100 कर्मचारियों को निकाल रही है। कोरोना संकट के चलते फूड की होम डिलिवरी न के बराबर रह गई है। सभी प्रभावित कर्मचारियों को कम से कम 3 महीने सैलरी दी जाएगी। साथ ही कंपनी का कहना है कि कर्मचारियों के नोटिस पीरियड की सैलरी के अलावा पूराने सर्विस पीरियड के 3-8 महीने के वेतन के बीच की सैलरी ऑफर की जाएगी।


कोरोना काल में बदलेगा एयर ट्रैवल, सैनेटाइजेशन के बाद ही मिलेगी एंट्री


लॉकडाउन के बाद जब आप एयरपोर्ट जाएंगे तो आपको पहले जैसा कुछ भी नहीं दिखेगा । सभी एयरपोर्ट्स मे अपने अंदर के डिजाइन पूरी तरह से बदल दिए हैं । हैदराबाद के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर एंट्री के पास ही सैनिटाइजर की व्यवस्था है। एयरपोर्ट में एंटर होने के साथ ही आपको सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना पड़ेगा । इसके लिए एंट्री प्वाएंट पर मारकर्स  बनाए गए हैं । सामान की ट्रॉली को इस्तमाल के हर बार सैनेटाईज किया जाएगा। एयरपोर्ट पर तभी एंट्री कर पाएंगे अगर थर्मल स्क्रीनिंग कैमरे आपको फिट पाते हैं। बोर्डिंग पास लेने के लिए लाइन में भी करी 1.5 मीटर की दूरी होगी। सिक्योरिटी चेक इन से पहले आपको हाथ में सेनिटाइजर लगाना होगा । बैठने के लिए हर दूसरी सीट खाली रखी जाएगी। एयरपोर्ट मे जगह जगह पे ऑटोमेटिक सैनिटाइजर डिसपेंसर लगे होंगे और बिना किसी के नजदीक गए ज्यादातर काम किए जाएंगे।



उड़ीसा, बंगाल पर अम्फान का खतरा, फानी के बाद दूसरा बड़ा चक्रवाती तुफान



बंगाल और उड़ीसा के तटीय इलाको पर अम्फान तुफान का खतरा मंडराने लगा है। जिसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 4 बजे गृह मंत्रालय और NDMA के साथ बैठक करेंगे। पीछले साल आए चक्रवात फानी के बाद ये दूसरा सबसे बड़ा चक्रवाती तुफान है, वहीं इसके खतरे को देखते हुए ओडिशा सरकार ने 12 जिलों में हाई अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक साउथ-ईस्ट बंगाल की खाड़ी में दबाव का क्षेत्र बना था, जो आज गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल गया है।


दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर पर भीड़


घर जाने के लिए दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर पर हजारों की संख्या में श्रमिक जमा हो गए हैं। ज्यादातर लोग अपने परिवार के साथ सड़क के किनारे ही बैठे हुए हैं, जिन्हे पुलिस नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है। लेकिन श्रमिक हटने को तैयार नहीं है, उनका कहना है कि प्रशासन उन्हें भेंजने में लापरवाही कर रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।