Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ट्रेड डील टूटी, US ने चीनी उत्पादों पर टैरिफ बढ़ाया

प्रकाशित Fri, 10, 2019 पर 10:56  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आखिर जिस बात का डर था वही हुआ। अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार से चाइनीज उत्पादों पर आयात शुलुक बढ़ाकर 25 फीसदी कर दिया है। ट्रेड डील को बरकरार रखने के लिए दोनों देशों के बीच बातचीत चल रही थी लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला था। 


ट्रेड डील पर पहले दिन की बातचीत के बाद अमेरिकी प्रशासन ने टैक्स कम करने का कोई संदेश नहीं दिया है। अमेरिकी कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन ने शुक्रवार सुबह 12 बजे से (0401GMT) से चाइनीज गुड्स पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी कर दिया है।


आयात शुल्क बढ़ने का असर चीन के 5,700 उत्पादों पर पड़ेगा। CBP के एक प्रवक्ता ने बताया कि आधी रात से पहले जो कार्गो ने चाइनीज पोर्ट से चल चुके थे उनपर 10 फीसदी का ही शुल्क लगेगा।


पिछले साल जब तीन चरणों में चाइनीज गुड्स पर टैरिफ बढ़ाया गया था तब अमेरिका ने कोई ग्रेस पीरियड नहीं दिया था। हालांकि उस वक्त अमेरिका ने नई शुल्क लागू करने से पहले तीन हफ्तों का नोटिस दिया था। ट्रेड डील टूटने के बात चीन के सारे प्रोडक्ट्स पर ड्यूटी संभव है। कुल मिलाकर 325 बिलियन डॉलर के और प्रोडक्ट्स पर 25 प्रतिशत ड्यूटी लगाई जा सकती है। इसके बदले में चीन भी जवाबी कार्रवाई कर सकता है। अगर अमेरिका-चीन के बीच तल्खी बढ़ी तो इसका पूरी दुनिया पर असर होगा। बाजारों में बड़ी गिरावट का खतरा बना रहेगा।


इस बार ट्रंप ने चीन 200 अरब डॉलर की वैल्यू वाले सामानों पर 25 फीसदी टैरिफ लगाने के लिए 5 दिनों से कम का टाइम दिया था। अमेरिका और चीन के बीच पिछले 10 महीनों से ट्रेड वॉर चल रहा है।



अमेरिकी बाजार में चीनी उत्पादों का दबदबा है। इस टैरिफ का असर इंटरनेट मॉडेम, राउटर और दूसरे डाटा ट्रांसमिशन पर पड़ेगा। साथ ही फर्नीचर, लाइटिंग प्रोडक्ट्स, ऑटो पार्ट्स, वैक्यूम क्लीनर बिल्डिंग मैटीरियल्स पर भी टैरिफ का असर दिखेगा।


समझौते की गुंजाइश बरकरार


हालांकि अमेरिका-चीन में बातचीत जारी है। अभी भी समझौते की उम्मीद बाकी है।