Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बगैर OTP के 2,000 रुपये तक कर सकते हैं ट्रांजैक्शन

मास्टर कार्ड ने अपने ग्राहकों की सहूलियत के लिए दो हजार रुपये तक के लेन-देन के लिए ओटीपी की जरूरत को खत्म कर दिया है
अपडेटेड Aug 07, 2019 पर 11:51  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मास्टरकार्ड ने अपने ग्राहकों की सहूलियत को देखते हुए One Time Password (OTP)  की जरूरत को खत्म कर दिया है। कंपनी ने कहा कि ग्लोबल स्तर पर हमने इसे समाप्त कर दिया है।  बिजनेस स्टैंडर्ड में छपी खबर के मुताबिक, दो हजार रुपये तक के लेन-देन में ओटीपी की जरूरत नहीं पड़ेगी। 


पेमेंट करने के क्षेत्र में दुनिया की दिग्गज कंपनी मास्टर कार्ड ने आइडेंटिटी चेक एक्सप्रेस नाम से पहली बार मोबाइल के लिए वेरीफिकेशन सर्विस शुरु की है। इसके तहत दो हजार रुपये तक के लेन-देन के लिए ओटीपी की जरूरत नहीं पड़ेगी।


इसके अलावा 2,000 रुपये से ज्यादा के ट्राजेक्शन के लिए शुरुआत में कार्ड उपयोगकर्ता एक स्पेशन पर्सनल नंबर बना सकते है। जो आगे चलकर ओटीपी की जरूरत को खत्म कर देगा।


मास्टरकार्ड ने अपनी एक रिपोर्ट में पाया कि 20 फीसदी तक मोबाइल ई-कॉमर्स के बीच लेन-देन होते हैं। मौजूदा समय की सर्विस से ओटीपी डालने पर काफी समय लगता है। कभी-कभी नेट की उचित पहुंच न होने के कारण फिर से इस प्रकिया को दोहराना पड़ता है। ऐसे में कंपनी ने OTP के बजाय दूसरे रास्ते की तलाश कर ली है।


कंपनी का मानना है कि, ये सर्विस ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए बेहतर है। साथ ही यह पूरी तरह से सुरक्षित है। इससे उपयोग सान हो जाएगा।


RBI की गाइडलाइंस के मुताबिक पहले दो हजार रुपये ट्रांजेक्शन पर दो बार वेरीफिकेशन होता था, लेकिन नोटबंदी के बाद 2 हजार रुपये से कम के लेन-देन पर ढील दी गई थी।