Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बजट के बाद इन PSU Bank शेयरों में आई 70% तक की रैली, अब क्या हो इनमें निवेश की रणनीति

जानकारों का कहना है कि बजट से जुड़े ट्रिगर्स के अलावा macro फैक्टर्स ने भी बाजार की इस रैली को सपोर्ट किया है.
अपडेटेड Feb 24, 2021 पर 10:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

साल 2020 में पीएसयू बैंक इंडेक्स में 30 फीसदी की गिरावट देखने को मिली थी लेकिन वित्त मंत्री द्वारा बजट भाषण में 2 सरकारी बैंकों के निजीकरण और पीएसयू बैंकों के री-कैपिटलाइजेशन के ऐलान के बाद इस पूरे पैक में जोरदार बाउंसबैक देखने को मिला।


IDBI Bank के अलावा बजट भाषण में 2 और सरकारी बैंकों और 1 जनरल इंश्योरेंस कंपनी के 2021-22 में प्राइवेटाइजेशन का ऐलान किया गया। यूनियन बजट 2021-22 में सरकार ने वित्त वर्ष  2022 के लिए  1.75 लाख करोड़ रुपये के विनिवेश का लक्ष्य रखा है।


बजट के बाद अधिकांश पीएसयू बैंक शेयर खरीदारों के रडार पर रहे हैं। बजट के बाद UCO Bank में 12 फीसदी से ज्यादा की बढ़त देखने को मिली है। वहीं Canara Bank और PNB 20 फीसदी से ज्यादा भागे हैं।


Bank of Maharashtra, Central Bank of India, Indian Bank, Indian Overseas Bank और Bank of India फरवरी में अब तक 50 फीसदी से ज्यादा भाग चुके हैं।


CapitalVia global Research के आशीष बिश्वास ने मनीकंट्रोल से बात करते हुए कहा कि निजीकरण के पहले बढ़ते बैड लोन और बिगड़ती वित्तीय स्थिति ने निवेशकों को पीएसयू बैकों में निवेश करने से रोके रखा। अब सरकारी बैंको के निजीकरण के ऐलान को निवेशकों को सकारात्मक तौर पर लिया है। निवेशकों को लगता है कि सरकार के इस कदम से बैकों की प्रोडक्टिविटी बढ़ेगी और बेहतर मैनजमेंट के चलते इनका एनपीए भी घटेगा।


Samco Securities की निराली शाह ने मनीकंट्रोल से बात करते हुए कहा कि निजीकरण की तरफ बढ़ते सरकार के कदम और आनेवाले वित्त वर्ष के लिए निर्धारित विनिवेश के लक्ष्य को हासिल करने के लिए सरकारी कोशिशों ने पीएसयू बैंक शेयरों में जोश भर दिया है। उन्होंने आगे कहा कि  रीकैपिटलाइजेशन और ARC की स्थापना के बजटीय ऐलान ने भी निवेशकों का ध्यान पीएसयू बैंक शेयरों की तरफ मोड़ दिया है।


अब आगे क्या निवेश रणनीति


पीएसयू बैंक शेयरों में आई हालिया रैली वास्तव में एक अच्छा संकेत है लेकिन बाजार दिग्गजों की सलाह है कि आगे भारी उतार-चढ़ाव की संभावना को देखते हुए सावधानी के साथ निवेश निर्णय लें। Samco Securities की निराली शाह का कहना है कि पीएसयू बैकों को लेकर निवेशकों को थोड़ा चौकन्ना हो जाना चाहिए क्योंकि अब पीएसयू बैंक इंडेक्स में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है।


जानकारों का कहना है कि बजट से जुड़े ट्रिगर्स के अलावा macro फैक्टर्स ने भी बाजार की इस रैली को सपोर्ट किया है लेकिन बुनियादी तौर पर बाजार में कमजोरी बनी हुई है। 


AnandRathi के Mehul Kothari ने अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि ऊपर दिए गए सभी फैक्टर पीएसयू बैंक शेयरों के लिए वित्तीय  और भावनात्मक दोनों रुपों से पॉजिटिव हैं। इसलिए हमको इस  समय लंबे समय से उपेक्षित पड़े इस सेक्टर में जोश आता दिखाई दे रहा है। उन्होनें आगे कहा कि टेक्निकल नजरिए से देखें तो इस पूरे पीएसयू बैंक  पैक में वर्तमान स्तर से थोड़ी नरमी आ सकती है।


मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए विचार एक्सपर्ट के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदाई नहीं है। यूजर्स को मनी कंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले सार्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।