Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

वैक्सीनेशन अभियान ने एक बार फिर पकड़ी रफ्तार, कोरोना से जंग में कॉरपोरेट ने खोला दिल

भारत 20 करोड़ वैक्सीनेशन करने वाला अमेरिका के बाद दूसरा देश बन गया है.
अपडेटेड May 28, 2021 पर 12:35  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

 भारत में वैक्सीनेशन अभियान ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली है। भारत 20 करोड़ वैक्सीनेशन करने वाला अमेरिका के बाद दूसरा देश बन गया है। लेकिन वैक्सीनेशन के इस अभियान में अब सरकार के साथ साथ कॉरपोरेट इंडिया भी आगे आ गया है। देश की सबसे बड़ी प्राइवेट कंपनी रिलायंस इसे लीड कर रही है जहां वो 800 से ज्यादा शहरों में अपने 13 लाख से ज्यादा कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों का वैक्सीनेशन कर रही है और वो भी मुफ्त। कई दूसरे कॉरपोरेट भी अपने स्टाफ का वैक्सीनेशन करवा रहे हैं।


RIL का R Suraksha


ये सबसे बड़ा कॉरपोरेट वैक्सीन ड्राइव है। इसके तहत रिलायंस से जुड़े लोगों को फ्री वैक्सीन लगेगी। इसके लिए देश के 880 शहरों में टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। 3.3 लाख लोगों को पहला डोज दिया भी गया है। जो पहले वैक्सीन ले चुके है उन्हें रिम्बर्समेंट मिलेगा। इसके तहत 15 जून तक सबको एक डोज लक्ष्य रखा गया है।


इनके लिए R Suraksha


R Suraksha 13 लाख RIL एम्पलॉई और परिवार के लिए है। इसमें रिटायर्ड RIL एम्लॉई और परिवार भी शामिल हैं। 13,000 रिटेल, Jio स्टोर स्टाफ भी इसमें शामिल हैं। एसोसिएट और पार्टनर कंपनियों के लोग भी इसके दायरे में हैं। BP और गूगल जैसे पार्टनर का स्टाफ भी इसमें शामिल है। सभी लाभार्थियों को परिवार सहित इसका लाभ मिलेगा।


परिवार की परिभाषा


R Suraksha की परिवार की परिभाषा में एम्पलॉई के बच्चे, माता-पिता, दादा-दादी, भाई-बहन और सास-ससुर शामिल हैं।


कैसे मिलेगी वैक्सीन?


इसके लिए लाभार्थी का CoWIN रजिस्ट्रेशन जरूरी है। Jio Healthhub पर वैक्सीन बुकिंग करवानी होगी। बता दें कि  Jio Healthhub, RIL का प्लैटफॉर्म है।


कहां लगेगी वैक्सीन?


RIL Occupational Health Center (OHC), रिलायंस अस्पताल, पार्टनर अस्पताल, Apollo, Max, Manipal जैसे पार्टनर
और  800+ शहरों में वैक्सीन देने का नेटवर्क है।


कॉरपोरेट की पहल


रिलायंस की तरह दूसरे कॉरपोरेट्स भी किसी न किसी तरह अपने कर्मचारियों की मदद में आगे आए हैं। कोई कोरोना का शिकार हुए कर्मचारियों के परिवार की मदद के लिए सोच रहा है तो कोई अपने कर्मचारियों के लिए अस्पताल और वैक्सीन का इंतजाम कर रहा है।


देश की लगभग हर कंपनी इस वक्त कोविड से प्रभावित अपने कर्मचारियों की मदद के लिए खास पैकेज लेकर आई है। टाटा स्टील कोरोना के चलते मौत शिकार हुए कर्मचारियों के परिवार को रिटायरमेंट डेट तक वेतन देती रहेंगी।


बजाज ऑटो भी मृत कर्मचारियों के परिवार को अगले 2 साल तक वेतन देगी। इसके अलावा मेडिकल सुविधाएं और हाउसिंग फैसिलिटी भी परिवार को मिलती रहेगी।


टेक महिंद्रा corona की वजह से मृत कर्मचारियों के बच्चों के की शिक्षा का खर्च 12वीं कक्षा तक उठाएगी। टाटा मोटर्स भी मृत कर्मचारियों के परिवार को बेसिक सैलरी का 50 फ़ीसदी देती रहेगी।


सभी बड़ी कंपनियां अपने सभी कर्मचारियों के मुफ्त वैक्सीनेशन की सुविधा भी दे रही हैं। कई कंपनियों ने कोरोना से ठीक हुए कर्मचारियों को रिकवरी के लिए लंबी छुट्टी देने का फैसला भी किया है।


होटल एग्रीगेटर ओयो अपने कर्मचारियों को जुलाई तक अनलिमिटेड पेड लीव दे रही है, साथ ही फिलहाल हफ्ते में चार दिन ही काम हो रहा है। जूबिलेंट फूड अपने कर्मचारियो के साथ साथ उनके परिवार के लिए कॉम्प्रिहेंसिव पैकेज दे रही है तो और pvr भी कर्मचारियों के लिए कोविड केयर पैकेज लेकर आई है।


इंडिगो एयरलाइंस न सिर्फ अपने कर्मचारियों के हॉस्पिटलाइजेशन का खर्च उठा रही है बल्कि कंपनी ने प्लाज्मा डोनर बैंक, 24x7  हेल्पलाइन और होटल्स के साथ मिलकर क्वॉरेंटाइन फैसिलिटी भी बनाई है । रेडिको खेतान भी Covid प्रभावित कर्मचारियों की मदद खास पेकेज के साथ कर रहा है।


कई कंपनियां  अपने डीलर और पार्टनर को भी इस तरह की सुविधा दे रही है। वोल्वो इंडिया अपने सभी डीलर और उनके कर्मचारियों को कोविड-19 इंश्योरेंस की सुविधा दे रही है। जोमैटो और स्विग्गी ने अपने सभी डिलीवरी पार्टनर को वैक्सीन दिलवाने का काम शुरू किया है।


स्टार्टअप्स और कंपनियों में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत स्टाफ और परिवार को मुफ्त टीका दिया जा रहा है। कई कंपनियों में टीका अनिवार्य कर दिया गया है। कई कंपनियों में टीका लगवाने के लिए इंसेंटिव और गिफ्ट दिए जा रहे हैं। अमेजॉन 10 लाख टीके लगवाएगा। इसमें उसके एम्पलॉई, परिवार, वेंडर और सप्लायर शामिल हैं।


फ्लिपकार्ट में एम्पलॉई और परिवार को फ्री टीका लगाया जा रहा है। कोका कोला, Bosch, PayTM में फ्री टीका लगाया जा रहा है। जोमैटो, स्विगी में भी सबको फ्री टीका लगेगा। मिंत्रा, पेप्सी, इन्फोसिस भी इस अभियान में शामिल हैं। टीके के लिए कंपनियों ने अस्पतालों से टाईअप किया है। पार्टनर नेटवर्क के जरिए भी वैक्सीनेशन दिया जा रहा है।


हालांकि कोरोना से हुई छति की भरपाई करना आसान नहीं है लेकिन कंपनियों द्वारा लिए जा रहे इन कदमों से कर्मचारियों को राहत जरूर मिली है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.