Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

TRAI ने क्यों फंसा रखा है IUC का पेंच, पॉलिसी की अनिश्चितता से टेलीकॉम सेक्टर को नुकसान!

6 पैसे प्रति मिनट की दर से कॉल चार्ज लगा दिया है ये इसलिए किया गया है कि TRAI ने IUC खत्म करने से मना कर दिया है
अपडेटेड Oct 11, 2019 पर 13:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आवाज अड्डा में आज हम एक ऐसे मुद्दे पर बात करेंगे जो हमारी आपकी रोजमर्रा की जिंदगी को प्रभावित करता है, रिलायंस जियो ने ग्राहकों पर 6 पैसे प्रति मिनट की दर से कॉल चार्ज लगा दिया है ये इसलिए किया गया है कि TRAI ने IUC खत्म करने से मना कर दिया है, तय समय के मुताबिक जनवरी 2020 से IUC खत्म होना था लेकिन अब इस पर एक बार फिर से रायशुमारी कराने का फैसला किया गया है, इसका असर ये हुआ कि मजबूरी में जियो को आपसे IUC वसूलने का फैसला लेना पड़ा जबकि रिलायंस का वायदा है कि वो वॉइस कॉल पूरी तरह फ्री रखेगा।


दरअसल TRAI का ये कदम कंज्यूमर हितों के खिलाफ है और इंडस्ट्री के विकास में बाधा भी है, नए जामाने की टेक्नोलॉजी के हिसाब से IUC पूरी तरह खत्म हो जाना चाहिए कई देशों में ये चार्ज नहीं लगता है मसलन सिंगापुर में. लेकिन कई टेलीकॉम कंपनियां इसे अब भी वसूलना चाहती हैं, अब सवाल ये है कि TRAI की ऐसी क्या मजबूरी है कि उसने अपने पहले के फैसले को बदल दिया है आज इसी पर चर्चा करेंगे कि टेलीकॉम सेक्टर के विकास में ये मुद्दा कितना भारी पड़ सकता है।


देश में जितनी तेजी के साथ टेलीकॉम सेक्टर आगे बढ़ रहा है, रेगुलेटर का रवैया उतना ही निराशाजनक हो रहा है। इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज यानि IUC को लेकर टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया की बेरुखी साफ नजर आती है। इसकी वजह से देशभर में सस्ता डाटा देने वाली रिलायंस जियो को अब गाहकों से 6 पैसे प्रति मिनट की दर से IUC लेने का फैसला करना पड़ा।


कंपनी ने ये फैसला इसलिए लिया है क्योंकि TRAI IUC चार्ज खत्म करने को तैयार नहीं है। TRAI ने एक जनवरी, 2020 से IUC हटाने की बात कही थी। लेकिन इस पर कंसल्टेशन पेपर जारी करके TRAI ने असमंजस की स्थिति पैदा कर दी है।


जियो के नेटवर्क पर हर महीने 25 से 30 करोड़ मिस्ड कॉल आते हैं। जियो अपने ग्राहकों को फ्री कॉलिंग की सुविधा देती है। इसलिए पिछले तीन साल में जियो को अपनी जेब से 13,500 करोड़ रुपए बतौर IUC भरने पड़े हैं। इसलिए अब जियो के लिए ग्राहकों से IUC वसूलना मजबूरी बन गया है। लेकिन जियो इसका बोझ ग्राहकों पर नहीं पड़ने देगी।


जियो के ग्राहक 10 रुपए का IUC टॉप-अप वाउचर के बदले एक जीबी फ्री डाटा का लाभ उठा सकते हैं। इसी तरह 20 रुपए में 2 जीबी, 50 रुपए में 5 जीबी और 100 रुपए के वाउचर पर 10 जीबी डाटा फ्री मिलेगा। सवाल ये है कि TRAI ने IUC का पेंच क्यों फंसा रखा है? क्या नए दौर में अब इस चार्ज को खत्म नहीं कर देना चाहिए?


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।