Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

COVID-19 effect: Corona 6 करोड़ लोगों को धकेल सकता है गरीबी के दलदल में: World Bank

वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि उसने 100 देशों में आपात सहायता पहुचानें के लिए बड़ी तेजी से निर्णायक कदम उठाए हैं।
अपडेटेड May 21, 2020 पर 11:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

World Bank के प्रेसीडेंट  डेविड मालपॉस ने एक कांफ्रेन्स कॉल में कहा है कि कोविड 19 महामारी और इसकी वजह से विकसित अर्थव्यवस्थाओं लागू लॉकडाउन  से दुनिया भर में 6 करोड़ से अधिक लोग गरीबी की दलदल में फंस जाएंगे। हाल के दिनों में गरीबी हटाने की दिशा में हमने जो कुछ भी हासिल किया है उसमें से बहुत कुछ खत्म हो जाएगा।


उन्होंने आगे कहा कि वर्ल्ड बैंक ग्रुप ने 100 देशों में आपात सहायता पहुचानें के लिए बड़ी तेजी से निर्णायक कदम उठाए हैं। इस कार्यक्रम को अच्छी तरह से संचालित करने के लिए दूसरे सहायता समूहों को भी इसमें शामिल किया गया है। वर्ल्ड बैंक नें इस घातक महामारी से निपटने के लिए 100 विकासशील देशों में आपात सहायता के लिए 160 अरब डॉलर का प्रावधान  किया है।


वर्ल्ड बैंक से सहायता पा रहे इन 100 देशों में दुनिया की 70 प्रतिशत आबादी रहती है। इनमें से 39 देश अफ्रीका के उप-सहारा क्षेत्र के हैं। कुल परियोजनाओं में एक तिहाई हिस्सा अफगानिस्तान, चाड, हैती और नाइजर जैसे राजनैतिक और चरमपंथी संघर्षों से जूझ से क्षेत्रों में से हैं।


डेविड मालपॉस ने आगे कहा कि विकास के रास्ते पर लौटने के लिए हमारा लक्ष्य स्वास्थ्य और आपात जरूरतों से जुड़ी मुश्किलों पर फोकस करते हुए तेज़ और लचीला रुख अपना कर तेजी से आगे बढ़ना होना चाहिए।  हमें गरीबों की मदद के लिए नकद और अन्य तरह की सहायता में निजी क्षेत्र के भी भागीदार बनाना होगा। हमें अर्थव्यवस्था की मजबूती और पुनरूद्धार पर फोकस करना होगा।


उन्होंने कहा कि इन सहायता कार्यक्रम को देशों के जरूरत  हिसाब से तैयार किया गया है ताकि वो स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं और कोविड 19 के आर्थिक सामाजिक कुप्रभावों से प्रभावी तरीके से निपट सकें। मालपॉस ने कहा कि इस कार्यक्रम से स्वास्थ्य व्यवस्था मजबूत होगी और गरीब देशों को जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरणों की खरीद में मदद मिलेगी।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।