Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

सुरक्षित हुआ रेलवे का सफर, पिछले साल कोई जानलेवा रेल हादसा नहीं

रेलवे को जीरो एक्सीडेंट मिशन टारगेट हासिल करने में पिछले साल बड़ी कामयाबी हासिल हुई है।
अपडेटेड Jan 18, 2020 पर 12:34  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ट्रेन का सफर अब सुहाना ही नहीं, सुरक्षित भी बन रहा है। रेलवे को जीरो एक्सीडेंट मिशन टारगेट हासिल करने में पिछले साल बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। इस साल रेल हादसे से किसी यात्री को अपनी जान नहीं गंवानी पड़ी।


रेलवे के लिए 166 साल में सबसे सुरक्षित साल 2019-20 रहा। 2019 में कोई ट्रेन हादसा नहीं हुआ। ये हम नहीं कह रहे, ये आधिकारिक आंकड़े हैं। टेक्नोलॉजी और सेफ्टी अपग्रेडेशन ने रंग दिखाया। ट्रेन का सफर सुरक्षित सफर बन गया। लेकिन कुछ साल पहले ट्रेन हादसे बड़ी मुसीबत बन गए थे। साल 2018-19 में 16, साल 2017-18 में 28 यात्रियों ने जानें गंवाई। वहीं पांच साल यानि 2013-18 में 110 रेल हादसों में 990 सवारियों की मौत हुई।


वैसे तो हर सरकार में ही यात्रियों की सुरक्षा प्राथमिकता लिस्ट में सबसे ऊपर रहती है लेकिन मोदी सरकार ने इसे सच भी साबित किया है, रेल मंत्रालय के मुताबिक पिछला साल जीरो एक्सीडेंट मिशन की ओर पहली कामयाबी साबित हुआ है। यात्री सुरक्षा पर रेल मंत्रालय ने कई कदम उठाए हैं।


खासतौर पर रेल मंत्री पीयूष गोयल की पहल पर मेंटेनेंस को मजबूत किया गया। unmmaned लेवल क्रासिंग पूरी तरह खत्म कर दी गई। ICF डिब्बों को LHB में तेजी से बदला जा रहा है। ट्रैक के रखरखाव और सिग्नल सिस्टम को अपग्रेड कर दुरुस्त किया जा रहा है। जाहिर है इन कोशिशों के बाद ट्रेन हादसे अब बीते दिनों की बात हो गई है। यात्रियों का भरोसा पटरी पर लौट रहा है।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।