Moneycontrol » समाचार » बाज़ार

कर्मचारियों से कैंटीन सुविधा के लिए वसूले गए चार्ज पर नहीं लगेगा GST

टाटा मोटर्स ने AAR की गुजरात पीठ से संपर्क कर इस बारे में जानकारी मांगी थी
अपडेटेड Aug 23, 2021 पर 09:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कर्मचारियों द्वारा कैंटीन सुविधा के लिए चुकाई गई राशि पर कोई गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) नहीं लगेगा। अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग (AAR) ने यह व्यवस्था दी है। टाटा मोटर्स ने AAR की गुजरात पीठ से संपर्क कर यह जानकारी मांगी थी कि क्या उसके कर्मचारियों द्वारा कैंटीन सुविधा के इस्तेमाल के लिए उनसे वसूली गई मामूली राशि पर जीएसटी लगेगा।


इसके अलावा कंपनी ने यह भी पूछा था कि क्या कारखाने में काम करने वाले कर्मचारियों को उपलब्ध कराई गई कैंटीन सुविधा पर सर्विस प्रोवाइडर (Service Provider) द्वारा लिए गए जीएसटी पर इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) की सुविधा मिलेगी।


AAR ने अपने फैसले में यह कहा है कि टाटा मोटर्स ने अपने कर्मचारियों के लिए कैंटीन की व्यवस्था की है, जिसका संचालन तीसरा पक्ष सर्विस प्रोवाइडर द्वारा किया जा रहा है। इस व्यवस्था के तहत कैंटीन शुल्क के एक हिस्से का बोझ कंपनी वहन कर रही है और शेष का कर्मचारी उठा रहे हैं।


पीएम मोदी ने कल्याण सिंह को दी श्रद्धांजलि, कहा – देश ने मूल्यवान शख्स खो दिया


कर्मचारियों के हिस्से के कैंटीन शुल्क को कंपनी द्वारा जुटाया जाता है और इसे कैंटीन सर्विस प्रोवाइडर को दिया जाता है। इसके अलावा टाटा मोटर्स ने यह भी कहा है कि कर्मचारियों से कैंटीन शुल्क वसूली में वह अपने मुनाफे का मार्जिन नहीं रखती है।


अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग ने कहा कि कैंटीन सुविधा पर जीएसटी भुगतान के लिए आईटीसी जीएसटी कानून के तहत प्रतिबंधित क्रेडिट है और आवेदक को इसका लाभ नहीं मिला सकता। एएमआरजी एंड एसोसिएट्स के वरिष्ठ भागीदार रजत मोहन ने कहा कि अभी सब्सिडी वाला खाने-पीने का सामान उपलब्ध कराने वाली कंपनियां कर्मचारियों से इसकी वसूली पर पांच प्रतिशत का टैक्स ले रही हैं।


GST काउंसिल की अगली बैठक में छूट में कटौती और गड़बड़ियों को दूर करने पर रहेगा फोकस


एएआर ने अब व्यवस्था दी है कि जहां कैंटीन शुल्क का एक बड़ा हिस्सा नियोक्ता (Employers) द्वारा वहन किया जाएगा और कर्मचारियों से सिर्फ मामूली शुल्क लिया जाएगा, उनमें GST (Goods and Services Tax) नहीं लगेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।