Moneycontrol » समाचार » बाज़ार

Noble Prize 2019: इस छोटे से पॉवरफुल इन्वेंशन के लिए इन 3 वैज्ञानिकों को Chemistry में मिला नोबल

इन वैज्ञानिकों को लिथियम-आयन बैटरी डेवलप करने के लिए नोबल दिया जा रहा है
अपडेटेड Oct 09, 2019 पर 19:09  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Noble Prize 2019 in Chemistry। इस साल के नोबल पुरस्कारों के विजेताओं के नामों की घोषणा शुरू हो गई है। मेडिसिन, फिजिक्स के बाद अब केमेस्ट्री के क्षेत्र में भी विजेताओं के नामों की घोषणा हो गई है। इस साल का केमेस्ट्री का नोबल वैज्ञानिकों- John Goodenough, Stanley Whittingham और Akira Yoshino को मिला है।


बुधवार को स्वीडन स्थित नोबल अवॉर्ड कमिटी ने इनके नामों की घोषणा की। इन वैज्ञानिकों को लिथियम-आयन बैटरी डेवलप करने के लिए नोबल दिया जा रहा है।


इस इन्वेंशन की अहमियत को रेखांकित करने के लिए रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज ने एक बयान में कहा कि यह हल्की, रिचार्ज की जा सकने वाली पॉवरफुल बैटरी अब मोबाइल, लैपटॉप से लेकर इलेक्ट्रिक व्हीकल्स तक में इस्तेमाल की जाती है।


इन वैज्ञानिकों को नोबल पुरस्कार के साथ 9 मिलियन स्वीडिश क्राउन यानी 906,000 डॉलर दिए जाएंगे।


इसके अलावा फिजिक्स के क्षेत्र में कनाडा मूल के अमेरिकी एस्ट्रोफिजिसिस्ट यानी ब्रह्मांड वैज्ञानिक जेम्स पीबल्स, स्विस एस्ट्रोफिजिसिस्ट माइकल मेयर और फिजिक्स के प्रोफेसर डीडियर क्वेलोज को इस साल के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है।


रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ सांइसेज ने अपनी घोषणा में बताया कि पीबल्स को यह पुरस्कार उनकी सैद्धांतिक खोजों के लिए दिया गया है। उन्होंने बिग बैंग के बाद ब्रह्मांड के विकास के संबंध में खोज किया है ।


मेयर और क्वेलोज को उनके पहले रिसर्च के लिए यह पुरस्कार दिया गया है। इन दोनों वैज्ञानिकों ने संयुक्त रूप से सौर मंडल के बाहर एक ग्रह का पता लगाया था जो मिल्की वे में एक तारे की परिक्रमा कर रहा था। वैज्ञानिकों ने यह खोज 1995 में की थी।


पीबल्स अमेरिका के प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में साइंस के अल्बर्ट आइंस्टीन प्रोफेसर के पद पर हैं जबकि मेयर और क्वेलोज जिनेवा यूनिवर्सिटी में पढ़ाते हैं।


बता दें कि फिजिक्स के नोबेल पुरस्कार का आधा हिस्सा पीबल्स को दिया गया है जबकि बाकी राशि बाकी दोनों वैज्ञानिकों को दी गई है। इस पुरस्कार के तहत एक गोल्ड मेडल, एक डिप्लोमा और करीब 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (नौ लाख 14 हजार अमेरिकी डालर) दिया जाएगा ।


बता दें कि नोबल पुरस्कार स्टॉकहोम में 10 दिसंबर को दिया जाएगा। 10 दिसंबर इस पुरस्कार की शुरुआत करने वाले वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबल की पुण्यतिथि है जिनका निधन 1896 में हुआ था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।