"30% से ज्यादा ग्रोथ रेट हासिल, अगले 2-3 साल और ज्यादा ग्रोथ की उम्मीद" - Mindtree, CFO Vinit Teredesai

"30% से ज्यादा ग्रोथ रेट हासिल, अगले 2-3 साल और ज्यादा ग्रोथ की उम्मीद" - Mindtree, CFO Vinit Teredesai

कंपनी की इस साल की ऑर्डर बुक 1.2 अरब डॉलर पहुंच गई है

अपडेटेड Jan 14, 2022 पर 6:39 PM | स्रोत : CNBC Awaazमाइंडट्री के सीएफओ ने कहा एट्रिशन पूरी इंडस्ट्री की समस्या है और सभी इंडस्ट्री में एट्रिशन होता है

माइंडट्री (Mindtree) ने कल तीसरी तिमाही के लिए अपने नतीजे घोषित किये। तिमाही आधार पर दिसंबर 2021 तिमाही में कंपनी को 437.5 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ जबकि सितंबर 2021 तिमाही में कंपनी को 398.9 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। इस तिमाही में कंपनी की आय 2,586.2 करोड़ रुपये से बढ़कर 2,750 करोड़ रुपये हो गई। कंपनी के नतीजों के बाद आज Mindtree के CFO Vinit Teredesai ने सीएनबीसी-आवाज़ से बात की। इस चर्चा में उन्होंने कंपनी की डिमांड साइकल, अट्रिशन, धीमी डील्स, कोविड के असर, मार्जिन और अगले साल के गाइडेंस के बारे में विस्तार से बात की। पेश है उनसे से बातचीत के प्रमुख अंशः

तीसरी तिमाही में अनुमान से कम रहे नतीजे

विनीत इस पर कहा कि लगातार चौथी तिमाही में करेंसी ग्रोथ 5% से ऊपर नजर आई। कंपनी पर Q3 में हमेशा से ही थोड़ा दबाव रहा है। लेकिन Q4 में आय दोबारा बढ़ने की उम्मीद है। कंपनी के लिए मांग में कोई कमी नहीं दिखाई दे रही है। वहीं कंपनी ने 30% का ग्रोथ लक्ष्य हासिल किया है। इसके आगे Q4 में कंपनी की ग्रोथ और बढ़ने की उम्मीद है। आपको बता दें कि

Q3 में कंपनी का मार्जिन भी बढ़ा है और कंपनी फ्रेशर्स को नौकरी दे रही है।

कैसा रहा डिमांड साइकल

कंपनी के सीएफओ ने इसका जवाब देते हुए कहा कि कंपनी के कारोबार पर कोरोना का असर दिखा साथ ही पेंट-अप मांग में तेजी देखने को मिली। इस समय नजर आ रही मौजूदा मांग लंबी अवधि के लिए बनी है। हम कस्टमर को बेहतर सुविधा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। कंपनी के लिए कई स्तरों पर डिजिटल चैनल विकसित हो रहा है। डिजिटल चैनल के विकास से कस्टमर, कंपनी को फायदा होगा। इस समय देश में डिजिटल ट्रांस्फॉर्म स्टेज में है हालांकि कई चीजों का डिजिटल ट्रांस्फॉर्मेशन होना अभी बाकी है।

Aurobindo Pharma का शेयर 3% फिसला, अमेरिकी दवा नियामक से वार्निंग लेटर मिलने के बाद दिखी गिरावट

पूरी इंडस्ट्री की समस्या है एट्रिशन (ATTRITION)

एट्रिशन पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि ये पूरी इंडस्ट्री की समस्या है। सब जानते हैं कि सभी इंडस्ट्री में एट्रिशन होता है। इस समय नए, अनुभवी दोनों तरह के लगों को नौकरी मिल रही है। हालांकि कंपनी फ्रेशर्स को ज्यादा नौकरी पर रख रही है क्योंकि फ्रेशर्स कंपनी के हालात में जल्दी ढ़ल जाते हैं। इसके अलावा फ्रेशर्स ज्यादा मेहनत, लगन के साथ काम करते हैं और फ्रेशर्स ज्यादा समय तक कंपनी में बने रहते हैं।

विनीत ने आगे कहा कि हमारी 1000-1500 फ्रेशर्स हर क्वाटर में रखने की कोशिश रहती है। लोग कंपनी न छोड़ें इस पर भी हम काम कर रहे हैं। इसके तहत कंपनी ने साल में 2 बार लोगों का इंक्रीमेंट किया है। हमारा मानना है कि अगले 2-3 सालों में हालात सुधर जाएंगे। लेकिन एट्रिशन किसी भी इंडस्ट्री के लिए अच्छा नहीं होता है।

डील में दिखी सुस्ती

डील में सुस्ती रहने की बात का जवाब देते हुए विनीत ने कहा कि कंपनी ने 12% ज्यादा डील किए हैं। कंपनी की इस साल की ऑर्डर बुक 1.2 अरब डॉलर की है। कंपनी के पास लंबी, छोटी अवधि के कस्टमर हैं। कंपनी की कॉन्ट्रैक्ट वैल्यू भी अच्छी रही है। माना जाता है कि बिना अच्छी कॉन्ट्रैक्ट वैल्यू अच्छी ग्रोथ संभव नहीं होती है।

माइंडट्री का मुनाफा बढ़ा, जानें शेयर पर ब्रोकरेज हाउसेज की निवेश राय

मार्जिन में रहा आउटपरफॉर्मेंस

मार्जिन आउटपरफॉर्मेंस पर विनीत ने कहा कंपनी फ्रेशर्स को नौकरी और ट्रेनिंग भी दे रही है। कंपनी द्वारा बैलेंसिंग के कारण मार्जिन में सुधार नजर आया। इसके साथ ही सब-कॉन्ट्रैक्टिंग कॉस्ट भी कम हुआ है। इसके पहले Q1 में सब-कॉन्ट्रैक्टर्स बढ़ गए थे तो मार्जिन घटी थी। लेकिन पिछली 2 तिमाहियों में सब-कॉन्ट्रैक्टिंग कॉस्ट नहीं बढ़ी है और रुपए में कमजोरी से भी कंपनी को फायदा मिला है।

वित्त वर्ष 2022 कैसा रहेगा गाइडेंस

Vinit Teredesai ने कहा कि इस साल हमें 30% से ज्यादा ग्रोथ रेट हासिल हुई है। इसके आगे मांग बढ़ने से कंपनी की ग्रोथ भी बढ़ेगी। हमें मांग में कोई कमी आती नहीं दिख रही है। इतना ही नहीं अगले 2-3 साल और ज्यादा ग्रोथ की उम्मीद है।

कैसा रहा कोविड का असर

विनीत ने कहा कि कोरोना का छोटी अवधि में असर नहीं होता है। Q1FY21 में कोरोना का कारोबार पर असर रहा है। लेकिन कोरोना काल में भी कंपनी ने ग्रोथ किया है। इस समय ट्रैवल सेक्टर की आय प्री-पेंडेमिक के स्तर पर पहुंच गई है। ट्रैवल सेक्टर में काफी डाइवर्सिफिकेशन किया है। हमारा पहले एयरलाइंस, होटल इंडस्ट्री पर फोकस था। अब हमारा फोकस फ्लीट, कार रेंटल इंडस्ट्री में बढ़ा है। वैसे भी कंपनी के पास हर तरह के क्लाइंट्स मौजूद हैं। अभी तक ओमीक्रोन का कोई बुरा असर नहीं दिखा है।

 

 

 

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Jan 14, 2022 6:39 PM