भारत में क्रिप्टोकरेंसी के लिए काफी संभावनाएं हैं लेकिन पारदर्शिता कितनी है?

भारत में क्रिप्टोकरेंसी के लिए काफी संभावनाएं हैं लेकिन पारदर्शिता कितनी है?

10 करोड़ से ज्यादा निवेशकों के साथ भारत, अमेरिका और रूस सहित दुनिया के दूसरे देशों की तुलना में काफी आगे है

अपडेटेड Oct 19, 2021 पर 6:57 PM | स्रोत : Moneycontrol.com

क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने की बात करें तो दुनिया के बाकी देशों के मुकाबले भारत काफी आगे हैं। ब्रोकरचूजर (Brokerchooser) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने वाले निवेशकों की संख्या पर नजर डालें तो 10 करोड़ से ज्यादा निवेशकों के साथ भारत, अमेरिका और रूस सहित दुनिया के दूसरे देशों की तुलना में काफी आगे है।

अमेरिका में केवल 2.74 करोड़ क्रिप्टो निवेशक हैं। वहीं रूस में इनकी संख्या 1.73 करोड़ है। Zerodha के फाउंडर नितिन कामत ने भी अपने ट्वीट पर इस बात को हाईलाइट किया है कि भारत दुनिया का सातवां सबसे बड़ा क्रिप्टो अवेयर देश है। इसके अलावा कुल पॉपुलेशन में क्रिप्टो निवेशकों की संख्या के नजरिए से भी भारत पांचवां सबसे बड़ा देश है। देश में क्रिप्टो करेंसी के बाजार में सालाना आधार पर करीब 651 फीसदी की बढ़ती देखने को मिल रही है।

देश में क्रिप्टो मार्केट की यह विकास गाथा यहीं नहीं खत्म हो जाती है। तमाम रिपोर्ट से यह पता चलता है कि भारत क्रिप्टो करेंसी की स्वीकृति (adoption)के नजरिए से 154 देशों में दूसरे नंबर पर है। यहां तक कि क्रिप्टो को लेकर देश के लोगों द्वारा जानकारी खंगालने के नजरिए से देखें तो देश में हर सेकंड 36 लाख लोग इंटरनेट पर क्रिप्टोकरेंसी सर्च करते हैं।

वहीं अमेरिका में यह आंकड़ा 69 लाख सर्च प्रति सेकेंड है। इस तरह इंटरनेट पर क्रिप्टों सर्च के मामले में भारत अमेरिका के बाद दुनिया में दूसरे स्थान पर हैं। ये आंकड़े पिछले 12 महीने के हैं।

ये आंकड़े देश में क्रिप्टो से जुड़े उत्साह का बयां करते हैं। लेकिन में इसके निवेशकों से जुड़ी पारदर्शिता और नियमों की स्पष्टता के नजरिए से देखें तो इसका काफी अभाव है।

एक तरफ जहां क्रिप्टोकरेंसी निवेश के एक बड़े विकल्प के रूप में उभर रही है, वहीं दूसरी तरफ दिग्गजों का मानना है कि देश में निवेशकों की निवेश की सुरक्षा को लेकर नियमों और पारदर्शिता का अभाव है। देश में लगातार विकास करते क्रिप्टो मार्केट के लिए नियमों में ज्यादा स्पष्ता और पारदर्शिता की जरूरत है।

देश में क्रिप्टो इंडस्ट्री के स्वस्थ विकास में अपनी अग्रणी भूमिका निभाते हुए क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX ने अपना पहला ट्रांसपैरेंसी रिपोर्ट जारी किया है। जिसमें अप्रैल से सितंबर 2021 की अवधि में कंपनी से विभिन्न लॉ इनफोर्समेंट एजेंसी की तरफ से मांगी गई जानकारियों, जानकारियों के प्रकार, यूजर वेरीफिकेशन प्रक्रिया और कस्टमर सपोर्ट के लिए किए गए प्रावधानों का विवरण दिया गया है।

WazirX की योजना है कि वह छमाही आधार पर इस तरह की ट्रांसपैरेंसी रिपोर्ट जारी करेगी। इसके साथ ही WazirX ने एक ब्लॉकचेन रिसर्च और एनालिसिस प्लेटफॉर्म को लांच करनेका का भी ऐलान किया है। जिसका नाम ब्लॉकचेन पेपर होगा।

कंपनी ने इस रिपोर्ट में बताया है कि उसको अप्रैल से सितंबर 2021 की अवधि में विभिन्न लॉ एन्फोर्समेंट एजेंसियों से लगभग 377 रिक्वेस्ट मिले हैं। इनमें 38 विदेशी लॉ एन्फोर्समेंट एजेंसियां है, जबकि 339 इंडियन लॉ इनफोर्समेंट एजेंसियां हैं।

कंपनी ने बताया है कि उसने सभी आवेदनों का जवाब दे दिया है और उसकी कंप्लायंस रेट 100 फीसदी है। यह ध्यान देने की बात है कि इस पूछताछ से जुड़े सभी मामले आपराधिक प्रवृत्ति के मामले हैं।

इस रिपोर्ट में कंपनी ने आगे बताया है कि उसने अप्रैल से सितंबर 2021 की अवधि में लगभग 14,469 अकाउंट ब्लॉक किए हैं। इसमें से करीब 90 फीसदी अकाउंट कस्टमरों के रिक्वेस्ट पर ब्लॉक किए गए हैं। और बाकी अकाउंट पेमेंट से जुड़े विवादों और लॉ एन्फोर्समेंट एजेंसियों के जांच के चलते ब्लॉक किए गए हैं।

पारदर्शिता के प्रति बढ़ता यह फोकस उस समय बढ़ा है जब WazirX (83 लाख) और कॉइनस्विच कुबेर जैसे क्रिप्टो एक्सचेंज ने जिरोधा (70 लाख) जैसे स्थापित प्लेटफॉर्म को पीछे छोड़ दिया है।

इस पर टिप्पणी करते हुए WazirX के फाउंडर और CEO निश्चल शेट्टी ने कहा कि ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट हमारे लिए काफी अहम है। यह अपने में एक प्रतिमान है। इससे भारत में क्रिप्टो को लेकर जुड़ी मान्यताओं और नियमों में भारी बदलाव होगा। हमारे प्रदर्शन, मार्केट कैप और ट्रेडिंग वॉल्यूम को मद्दे नज़र रखते हुए हमें यूनिकॉर्न माना जाता है।

हालांकि, मूल्यांकन हमारे लिए अंतर्भूत नहीं है। ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट जैसी हमारी पहल क्रिप्टो मार्केट की विश्वसनीयता को बढ़ाएगी और यह निवेशकों के लिए ज्यादा आकर्षक बनेगा। हम पॉजिटिव रेगुलेशन जैसे बड़े लक्ष्य पर फोकस कर रहे हैं और हम नए कदमों के जरिए इसके लिए रास्ता बना रहे हैं।

इसी क्रम में WazirX के डायरेक्टर ऑफ पब्लिक पॉलिसी अरित्रा सरखेल (Aritra Sarkhel) ने कहा कि एक्सचेंज अपने यूजरों और पॉलिसी मेकरों के लिए भारत में क्रिप्टो कारोबार से जुड़े सभी मुद्दों पर पूरी तरह पारदर्शिता लाने के लिए प्रतिबद्ध है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Oct 19, 2021 6:57 PM

सब समाचार

+ और भी पढ़ें