Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

पहला कदम: जाने बैलेंस्ड फंड की बारीकियां

बैलेंस फंड इक्विटी और डेट में निवेश करते हैं। ये इक्विटी में 65 फीसदी तक निवेश करते हैं।
अपडेटेड Oct 21, 2017 पर 17:35  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पहला कदम सीजन-3 के पिछले कुछ एपिसोड्स से बात  हो रही है म्युचुअल फंड्स निवेश की। आज भी हमारी चर्चा का फोकस म्युचुअल फंड्स इन्वेस्टमेंट पर ही है। इस एपिसोड के बाद आपके जेहन में अगर कुछ सवाल हों तो आप पहला कदम की वेबसाइट, फेसबुक पेज और ट्विटर के जरिए हम तक पहुंचा सकते हैं।


आपको बता दें कि इस सीजन में आपके लिए एक कॉन्टेस्ट रखा गया है। पहला कदम सीजन-3 की वेबसाइट या फेसबुक पेज पर जाकर आप इस कॉन्टेस्ट में हिस्सा ले सकते हैं। महीने भर में जो प्रतियोगी वेबसाइट पर पूछे गए सवालों के सबसे ज्यादा बार सही जवाब देगा उसे गुरु ऑफ द मंथ का अवॉर्ड दिया जाएगा।


पिछले एपिसोड में हमने बात की थी डेट फंड की। आज के एपिसोड में चर्चा होगी बैलेंस्ड फंड की। बता दें कि बैलेंस फंड इक्विटी और डेट में निवेश करते हैं। ये इक्विटी में 65 फीसदी तक निवेश करते हैं। बैलेंस फंड डेट बाजार के उतार-चढ़ाव में बैलेंस रखता है। बैलेंस फंड में ज्यादा निवेश इक्विटी में होता है। इक्विटी में 1 साल बाद निवेश टैक्स फ्री हो जाता है।


जानकारों का कहना है कि इस तरह के किसी फंड में निवेश के पहले फंड हाउस की जांच-पड़ताल कर लें। फंड चुनने के पहले रिसर्च जरूरी है। फंड में निवेश के पहले सही फंड मैनेजर का चुनाव करें। निवेश की शुरुआत बैलेंस फंड से करें। बैलेंस फंड में निवेश के फैसले फंड मैनेजर करते हैं। ये ध्यान में रखें कि ज्यादा रिस्क का मतलब ज्यादा मुनाफा होता है लेकिन अपनी रिस्क उठाने की क्षमता के मुताबिक ही फंड का चुनाव करें।