Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

योर मनीः म्यूचुअल फंड पर लगनेवाले खर्च से कैसे बचें

प्रकाशित Sat, 03, 2018 पर 18:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

म्यूचुअल फंड पर लगनेवाले खर्च से क्या बचा जा सकता है और क्या भारी प्रीमियम भरने के बावजूद नही मिला अच्छा रिटर्न नहीं मिल रहा है। तो योर मनी आपको बताएंगा कि आपके फाइनेंशियल स्ट्रैटजी में कहां गलतियां हो रही है, जिसमें हमारा साथ देने के लिए मौजूद हैं आनंदराठी वेल्थ मैनेजमेंट के डिप्टी सीईओ फिरोज अजीज।


सवालः 2 साल से एसआईपी के जरिए 30,000 रुपये म्यूचुअल फंड में निवेश कर रहे है। लंबी अवधि के लिए निवेश करना है। फंड में कुछ बदलाव की जरूरत है?फंड के साथ 1.5-2.5 फीसदी का खर्च तय ? 20-25 साल के निवेश में एक्सपेंस पर 30-35 फीसदी राशि खर्च होगा। निवेश के वक्त इन खर्चों से कैसे बचें?


फिरोज अजीजः म्यूचुअल फंड में फंड मैनेजमेंट चार्ज शामिल करें। सेबी ने खर्च कम करने के लिए कदम उठाए है। हर स्कीम का एक्सपेंस रेश्यो एएमएफआई वेबसाइट पर है। म्यूचुअल फंड में निवेश पर खर्च देना पड़ेगा। डायरेक्ट प्लान में खर्च रेगुलर से कम है। बाजार की समझ रहे तो डायरेक्ट प्लान में निवेश करें। ईटीएफ का प्रदर्शन हूबहू बेंचमार्क जैसाहोता है और ईटीएफ में निवेश से बेंचमार्क से बेहतर रिटर्न नहीं मिलता है। डायवर्सिफाइड ओपन एंडेड फंड में एसआईपी करें।