Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

10 दिनों में 2600 ट्रेनों से 36 लाख लोग करेंगे यात्रा, RAC भी होगा कन्फर्म, रेलवे ने किया एलान

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद यादव ने कहा है कि जब तक सभी श्रमिक घर नहीं पहुंच जाते, तब तक श्रमिक ट्रेनें जारी रहेंगी
अपडेटेड May 25, 2020 पर 13:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच रेलवे यात्रियों की पूरी सेवा के लिए हमेशा तैयार है। दुनिया भर में कोरोना वायरस का कोहराम मचा हुआ है। इस बीच रेल मंत्रालय यात्रियों की सुविधा के लिए लगातार कई अहम फैसले ले रह है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद यादव ने कहा है कि अगले 10 दिनों में 2600 ट्रेनों के जरिए 10 लाख लोगों को पहुंचाने का लक्ष्य रखा है।


विनोद यादव ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि रेलवे 2,600 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें यात्रा पूरी कर चुकी हैं। इनमें 35 लाख से अधिक लोग यात्रा कर चुके हैं। उऩ्होंने कहा कि स्पेशल ट्रेनों में यात्रा करने से पहले 30 दिन पहले भी रिजर्वेशन टिकट ले पाएंगे। इससे पहले रेलवे ने यात्रा से 7 दिन पहले टिकट बुकिंग करने की इजाजत दी थी। 1 जून से 200 मेल एक्सप्रेस ट्रेनें चलाई जाएंगी। टिकटों के लिए 1000 काउंटर खोले गए हैं साथ ही आगे अभी और काउंटर खो ले जाएंगे। IRCTC एजेंट, पोस्ट ऑफिस, कॉमन सर्विस सेंटर्स आदि को भी टिकट देने की अनुमति दी गई है। पहले सिर्फ IRCTC की वेबसाइट और ऐप से ही टिकट बुकिंग की अनुमति थी।


RAC टिकटों को यात्रा करने की मंजूरी दी गई है। वेटिंग लिस्ट के यात्रियों को यात्रा करने की अनुमति नहीं है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने ये भी साफ कर दिया कि स्पेशल ट्रेनों में पहले के मुकाबले ज्यादा किराया नहीं वसूला जा रहा है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन से पहले जो टिकट के दाम थे आज भी वहीं हैं। किसी भी टिकट पर एक भी पैसा ज्यादा नहीं लिया जा रहा है। यादव ने ये भी कहा कि राज्य सरकारों की जरूरत के मुताबिक, हम राज्यों के भीतर भी ट्रेन चलाने के लिए तैयार हैं। पश्चिम बंगाल में ट्रेन चलाने के मामले में उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल जब राजी होगा, तब वहां स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें