Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

6 भाषाओं में से 4 भारत की भाषाओं ने अमेरिका में जमाया कब्जा

अमेरिका कम्युनिटी सर्वे (America Community Survey) के मुताबिक साल 2010 और 2017 के बीच संयुक्त राज्य अमेरिका में हिंदी दूसरी सबसे तेजी से बढ़ने वाली भाषा थी।
अपडेटेड Feb 20, 2020 पर 10:53  |  स्रोत : Moneycontrol.com

साल 2014 में जब भारत आम चुनाव हो रहे थे। पीएम मोदी के चुनाव प्रचार की लाइन थी, अब की बार, मोदी सरकार। इसी तरह साल 2016 में जब डोनाल्ड ट्रंप चुनाव लड़ रहे थे। तब उन्होंने भी अब की बार ट्रंप सरकार का नारा दिया था। हालांकि ट्रंप इस नारे को ढंग से उच्चारण भी नहीं कर पा रहे थे। डोनाल्ड ट्रंप के वोटर्स सबसे अधिक हिंदी मतदाता थे।
अमेरिका कम्युनिटी सर्वे (America Community Survey) के मुताबिक साल 2010 और  2017 के बीच संयुक्त राज्य अमेरिका में हिंदी दूसरी सबसे तेजी से बढ़ने वाली भाषा थी। हिंदी उत्तर भारत में मुख्य रूप से बोली जाने वाली भाषा है, लेकिन अमेरिका में भारतीय भाषाओं में तेलुगू सबसे अधिक बोली जाती है।


संयुक्त राज्य अमेरिका में 2010 से 2017 के बीच तेलुगू बहुत तेजी बढ़ने वाली भाषा के रूप में उभर कर सामने आई है। तेलुगू आंध्र प्रदेश में बोली जाती है। अमेरिका में तकरीबन 86 फीसदी की ग्रोथ के साथ बोलने वालों की संख्या दो गुनी हो गई है। हिंदी अरबी भाषा के साथ संयुक्त रूप से दूसरी थी।


इस लिस्ट में चौथे नंबर पर उत्तर भारतीय मूल की एक भाषा उर्दू है। उर्दू जिसने अमेरिका में बोलने वालों में 30 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की है। ये भाषा ज्यादातर भारत और पाकिस्तान में बोली जाती है।


उर्दू के बाद चीनी और गुजराती भाषाएं आती है। जो कि 23 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की है।


बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप अगले हफ्ते दो दिवसीय भारत दौरे पर आ रहे हैं। साल 2020 में ही अमेरिका में राष्ट्रपति के चुनाव हैं। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि फिर से नारा दिया जाए कि अब कि बार ट्रंप सरकार। हालांकि ट्रंप गुजरात भी जा रहे हैं। ऐसे में अगर वो गुजराती में भी नारा गढ़ दें। तो कोई आश्यचर्च की बात नही होगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।