Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Brexit Crisis: एक महीने बाद ही जा रही है बोरिस जॉनसन की कुर्सी! संसद में मिली बड़ी हार

बोरिस जॉनसन को ब्रेक्जिट पर संसद में मंगलवार को पहली बड़ी हार मिली
अपडेटेड Sep 04, 2019 पर 16:43  |  स्रोत : Moneycontrol.com

बोरिस जॉनसन को ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बने हुए अभी एक महीने से कुछ ज्यादा ही वक्त हुए हैं, लेकिन फिलहाल ब्रिटेन में वक्त से पहले आम चुनाव होते हुए दिखाई दे रहे हैं।


बोरिस जॉनसन को ब्रेक्जिट पर संसद में मंगलवार को पहली बड़ी हार मिली। उनकी खुद की कंजर्वेटिव पार्टी के बागी सांसदों ने विपक्षी सांसदों के साथ मिलकर हाउस ऑफ कॉमंस के कामकाज का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया जिससे ब्रेक्जिट में देरी हो सकती है और मजबूरन समय से पहले चुनाव कराए जा सकते हैं।


जॉनसन के सांसदों ने ही खिलाफ में किया वोट


जॉनसन को ब्रेक्जिट के उनके अहम प्रस्ताव पर 301 वोट ही मिले जबकि उनके खिलाफ 328 वोट पड़े। बोरिस जॉनसन इस वादे के साथ प्रधानमंत्री बने थे कि 31 अक्टूबर तक ब्रेक्जिट पर समझौता हो न हो, ब्रिटेन यूरोपीय संघ से अलग हो जाएगा। जबकि विपक्षी पार्टी चाहती है कि ब्रेग्जिट पर तय की गई इस समयसीमा को बढ़ाया जाए।


बता दें कि मंगलवार को हाउस ऑफ कॉमंस में पेश किए गए ब्रेक्जिट के प्रस्ताव पर जॉनसन की खुद की पार्टी के 21 सांसदों ने सरकार के खिलाफ वोट किया, जिससे देश में मिड-अक्टूबर तक आम चुनाव कराए जाने की संभावना बन गई है।


अगर बुधवार को होने वाली वोटिंग में भी जॉनसन हार जाते हैं, तो उन्हें 31 जनवरी, 2020 की समयसीमा मांगने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।


हालांकि, जॉनसन का कहना है कि समयसीमा बढ़ाए जाने की मांग के आगे झुकने के बजाय आम चुनाव जल्दी कराने के पक्ष में रहेंगे। डाउनिंग स्ट्रीट ने भी संकेत दिया है कि जॉनसन आम चुनाव जल्दी कराए जाने का पक्ष ले सकते हैं।


दलबदली ने डाला असर


जॉनसन की हार के पीछे उनके एक सांसद का पार्टी बदलना रहा। कंजर्वेटिव पार्टी के सदस्य और ब्रेकनेल के सांसद फिलिप ली ने मंगलवार को ब्रेक्जिट का विरोध कर रही लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी को जॉइन कर लिया। उन्होंने पार्टी छोड़ने के पीछे पार्टी में झूठ का सहारा लेने, धौंस जमाने और राजनीतिक तौर पर चीजों को प्रभावित करने जैसी चीजों के होने को बताया।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।