Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

ई-सिगरेट पर पूरी तरह पाबंदी के बाद सिगरेट कंपनियों के शेयरों में उछाल

कैबिनेट की मीटिंग के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में निर्मला सीतारमण ने यह ऐलान किया
अपडेटेड Sep 19, 2019 पर 08:54  |  स्रोत : Moneycontrol.com

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने बुधवार को ऐलान किया कि कैबिनेट ने ई-सिगरेट पर पूरी तरह पाबंदी लगाने के प्रस्ताव को मंजूर कर लिया है। कैबिनेट की मीटिंग के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में निर्मला सीतारमण ने यह ऐलान किया।


ड्राफ्ट ऑर्डिनेंस के मुताबिक, ई-सिगरेट रखने पर 6 महीने की सजा या 50,000 रुपए का जुर्माना या दोनों हो सकती है। अगर कोई ई-सिगरेट के प्रोडक्शन, मैन्युफैक्चर, सेल्स, एडवर्टाइजमेंट और डिस्ट्रीब्यूशन में पहली बार कोई पकड़ा गया तो उसे एक साल की जेल या 1 लाख रुपए का जुर्माना या दोनों हो सकती है। अगर कोई दोबारा यह अपराध करता हुआ पकड़ा गया तो उसे तीन साल की सजा और 5 लाख रुपए का जुर्माना लगेगा।


सीतारमण ने कहा कि सरकार इस मामले में संसद के शीतकालीन सत्र में ऑर्डिनेंस लेकर आएगी और यह मामला उठाया जाएगा। प्रधानमंत्री कार्यालय के दिशानिर्देश में मंत्रियों का एक समूह प्रोहिबिटेशन ऑफ ई-सिगरेट्स ऑर्डिनेसं 2019 की जांच कर रहा है।


जो लोग ई-सिगरेट का सपोर्ट कर रहे थे, उनकी दलील थी कि यह तंबाकू के मुकाबले कम नुकसानदायक है। जबकि सरकार का पक्ष था कि इससे उतना ही नुकसान होता है जितना सामान्य सिगरेट से। ई-सिगरेट में तंबाकू नहीं होता है। इसमें वैपोराइज्ड लिक्विड निकोटिन होता है जिसे यूजर्स इनहेल करते हैं।


सिगरेट कंपनियों के शेयरों में तेजी


ई-सिगरेट पर पाबंदी लगते ही सिगरेट कंपनियों के शेयरों में अच्छा खासा उछाल देखने को मिला। बाजार बंद होने से पहले ITC के शेयर 1.8 फीसदी, गॉडफ्रे फिलिप्स इंडिया के शेयर 7.8 फीसदी, वीएसटी इंडस्ट्रीज के शेयर 1 फीसदी और गोल्डन टोबैको के शेयर 4.5 फीसदी चढ़कर बंद हुए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।