Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

World Giving Index: भारत 82वें, पाकिस्तान 69वें और US पहले पायदान पर

भारत इस इंडेक्स में 82वें स्थान पर है, जहां भारतीय हर तरह से अजनबियों की सहायता करते हैं
अपडेटेड Oct 18, 2019 पर 17:47  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत में दान देने वालों की संख्या पिछले 10 साल में बढ़ी है। World Giving Index की 10वीं वर्षगांठ पर चैरिटीज एंड फाउंडेशन (CAF) ने 128 देशों का एक इंडेक्स तैयार किया है। इसमें भारत 82वें नंबर पर है।


पिछले 10 साल के आंकड़ों पर नजर डाले तो पता चलता है कि 34 फीसदी लोगों ने एक अजनबी की मदद की। वहीं 24 फीसदी ने पैसे देकर और 19 फीसदी स्वयंसेवक बन गए या अपना वक्त दिया।


इस लिस्ट में सबसे ऊपर अमेरिका है। उसके बाद म्यांमार, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया का नंबर है। टॉप 10 में जिन देशों के नाम हैं उनमें आयरलैंड, कनाडा, श्रीलंका और इंडोनेशिया है। भारत 82वें नंबर पर और नेपाल 53वें नंबर पर है। पाकिस्तान को भारत से बेहतर स्थान मिला है। चैरिटी के मामले में पाकिस्तान 69वें नंबर पर, मेक्सिको 73वें और ब्राजील 74वें नंबर पर है। इंडेक्स में जिन देशों के नाम सबसे नीचे है उनमें यमन, ग्रीस औऱ चीन है।
 
इस क्षेत्र के सुपरवाइजर्स का कहना है कि जरूरी नहीं कि भारत में होने वाले अनौपचारिक दान को सर्वेक्षण के सवालों के जरिए माप सकें। रिपोर्ट में दस साल (2009-2018) के दौरान प्रत्येक देश के कुल आंकड़ों की जांच की गई, जिसमें 13 लाख लोगों का 128 देशों में सर्वे  किया गया। इसका मकसद लॉन्ग टर्म ट्रेंड पर फोकस करना था। इस सर्वे से पता चला कि वैश्विक स्तर पर उदारता में गिरावट का रुख है।
 
CAF India की CEO मीनाक्षी बत्रा ने कहा, “भारत में दान करने की एक मजबूत संस्कृति है, लेकिन यह काफी हद तक असंगठित और अनौपचारिक है। दूसरों की सहायता करना या अजनबियों की मदद करना एक पारिवारिक या एक सामाजिक /धार्मिक दायित्व के रूप में देखा जाता है। लेकिन हमें दान करने की भावना में और अधिक सामरिक होने की जरूरत है। सही कारण के लिए धन के सही स्थानों पर पहुँचने की आवश्यकता है। सामरिक दान के ज़रिये लोकोपकार एक मजबूत और स्वस्थ अर्थव्यवस्था बनाने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।”
 
बत्रा ने कहा कि आय में बढ़ते हुए अंतर ने भारत में कई विकासात्मक चुनौतियों को खड़ा कर दिया है। “इस अंतर को केवल मजबूत, निरंतर और सामरिक दान के माध्यम से ही पाटा जा सकता है। भारत सरकार को बेहतर नीतियों और प्रावधानों को लाना चाहिए जो अधिक से अधिक व्यक्तियों को सामाजिक कारणों के लिए दान करने के लिए सक्षम वातावरण को मजबूत कर सके और बनाए रख सके।”


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।