Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Corona Vaccine Update: क्रिसमस से पहले आ सकती है वैक्सीन, लेकिन जरूरी नहीं कि सभी पर असर करे

ब्रिटेन की वैक्‍सीन टास्‍कफोर्स की प्रमुख केट बिंघम ने कहा, कोरोना के शुरुआती टीके अधूरे हो सकते हैं औऱ यह जरूरी नहीं है कि वैक्सीन का असर सभी पर हो
अपडेटेड Oct 28, 2020 पर 20:05  |  स्रोत : Moneycontrol.com

ब्रिटेन में कोरोना वायरस वैक्सीन टास्कफोर्स (covid vaccine taskforce) की अध्यक्ष केट बिंघम (Kate Bingham) ने उम्मीद जताई कि इस साल क्रिसमस तक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) और एस्ट्रेजेनेका (AstraZeneca) द्वारा डेवलप कोरोना वायरस वैक्सीन बाजार में आ जाएगी। उन्होंने कहा कि क्रिसमस या 2021 की शुरुआत में कोरोना वायरस की कई वैक्सीन उपलब्ध होने की उम्मीद है। हालांकि, उनके कथन के अनुसार कोरोना वैक्‍सीन के इंतजार में बैठी दुनिया को थोड़ी मायूसी हाथ लग सकती है। मेडिकल जर्नल द लैंसेट (Lancet) में केट बिंघम ने लिखा कि कोरोना के शुरुआती टीके अधूरे हो सकते हैं औऱ यह जरूरी नहीं है कि वैक्सीन का असर सभी पर हो।

UK की वैक्‍सीन टास्‍कफोर्स की प्रमुख केट बिंघम ने लिखा, शुरुआती कोविड-19 वैक्‍सीन परफेक्‍ट नहीं होंगी, इसकी संभावना ज्‍यादा है। इसलिए यह जरूरी है क् हम लापरवाही नहीं करें और अति-आशावाद से बचें। उन्होंने कहा, हो सकता है कि पहले चरण में जो वैक्सीन लोगों तक पहुंचे, वह परफेक्ट नहीं हो और उसमें कुछ कमियां हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि कोरोना की वैक्सीन सभी लोगों के लिए कारगर हो। केट ने कहा कि फिलहाल तो हमें ये भी नहीं पता कि वैक्सीन कब तक बनेगी और या ये कभी बन भी पाएगी या नहीं। हमें जरूरत से ज्यादा नियमों में ढील देने की आवश्यकता नहीं है, यह अभी खतरनाक हो सकता है।

बुजुर्गों को करना पड़ सकता है इंतजार

केट के मुताबिक, 65 साल से ज्यादा कि उम्र के व्यक्तियों के लिए अभी परफेक्ट वैक्सीन का इंतजार और लंबा हो सकता है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन बन भी गई तो उसे सब तक पहुंचाना एक बड़ा चैलेंज होगा और कोरोना के बार-बार फैलने का खतरा बना रहेगा। हालांकि, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिची के वैज्ञानिकों ने कहा कि उसके और एस्ट्राजेनेका के वैक्सीन के शुरूआती नतीजों में बुजुर्गों पर भी वैक्सीन का असर दिख रहा है, जो राहत की बात है।

फाइजर की वैक्सीन जल्द आने की संभावना

वहीं, अमेरिकी फार्मा कंपनी फाइजर (Pfizer) ने इसी साल वैक्‍सीन उपलब्‍ध होने की संभावना जताई है। कंपनी के चीफ एग्‍जीक्यूटिव अल्‍बर्ट बूर्ला ने कहा कि अगर क्लिनिकल टेस्टिंग उम्‍मीद के हिसाब से चली और रेगुलेटर्स ने अप्रूवल दे दिया तो वे अमेरिका को 2020 में ही लगभग 4 करोड़ डोज सप्‍लाई कर सकते हैं। फाइजर को अमेरिकी सरकार से इस साल के अंत तक वैक्‍सीन की 4 करोड़ डोज सप्‍लाई करने का ठेका मिला है। कंपनी को मार्च 2021 तक 10 करोड़ डोज सप्‍लाई करनी हैं। उन्‍होंने कहा, अगर सबकुछ ठीक रहता है तो हम शुरुआती डोज डिस्‍ट्रीब्‍यूट कर पाएंगे। हालांकि कपंनी अभी तक वैक्‍सीन के प्रभाव (efficacy) के तय पैमानों तक नहीं पहुंची है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।