Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

पाक पहुंचा कोरोना वायरस, भारत ने चीन, जापान में फंसे लगभग 200 भारतीयों को किया एयरलिफ्ट

टोक्यो से एयर इंडिया के विमान में 119 भारतीयों के अलावा श्रीलंका, नेपाल, साउथ अफ्रीका और पेरु के पांच नागरिकों भी लाया गया है।
अपडेटेड Feb 27, 2020 पर 13:20  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस का कहर से पूरी दुनिया में दहशत का माहौल है। कोरोना वायरस का केंद्र चीन का वुहान प्रदेश है। जहां बुधवार को भारतीय वायु सेना C17 ग्लोबमास्टर विमान से चीन में 15 टन चिकित्सा सहायता पहुंचाई है। इस विमान ने वापसी में बांग्ला देश, म्यांमार, चीन, मालदीव, अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका और मेडगास्कर से 76 भारतीयों और 36 विदेशी नागरिकों को वुहान प्रांत से बाहर निकाला है। इस बीच कोरोना वायरस के कारण जापान तट पर खड़े क्रूज शिप से 119 भारतीयों समेत 5 विदेशी नागरिकों को एयरलिफ्ट किया गया है। एयर इंडिया के विशेष विमान से सभी नगरिक गुरुवार सुबह नई दिल्ली पहुंचे। जापान से भारतीय नागरिकों के अलावा श्रीलंका, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका और पेरू के नागरिकों को भी लाया गया है।


डायमंड प्रिंसेस क्रूज शिप से भारतीयों को निकालने में मदद के लिए विदेश मंत्री एस जयशंकर जापानी अधिकारियों की धन्यवाद दिया है। उन्होंने ट्विट किया, एयर इंडिया की फ्लाइट अभी टोक्यो से दिल्ली में उतरी है। कोरोना वायरस के कारण जापान के क्रूज शिप डायमंड प्रिंसेस पर फंसे 119 भारतीय और 5 श्रीलंका, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका और पेरू के नागरिक को लाया गया है। उन्होंने इसके लिए एयर इंडिया की भी सराहना की है।
चीन में कोरोना वायरस से मृतकों की संख्या 2,744 हो गई है। पुष्ट मामलों की संख्या बढ़कर 80000 हो चुकी है और अब तक 37 देशों में इसका संक्रमण फैल चुका है।
गौरतलब है कि जापान में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण 5 फरवरी को जापानी लग्जरी क्रूज डायमंड प्रिंसेस को अलग रखा गया। इस क्रूज जहाज पर कुल 3711 लोग सवार थे, जिनमें से 138 भारतीय थे। इनमें से 16 में कोरोना वायरस का पॉजिटिव टेस्ट पाया गया, जिन्हें उपचार के लिए जापान में ही रखा गया है, जबकि शेष को भारत वापस लाया गया।


इधर पाकिस्तान ने बुधवार को कोरोना वायरस से संक्रमित देश में पहले दो मामलों की पुष्टि की है। बुधवार शाम को एक ट्वीट करते हुए स्वास्थ्य पर प्रधानमंत्री के विशेष सहायक डॉ जफर मिर्जा ने कहा, मैं पाकिस्तान में कोरोना वायरस के पहले दो मामलों की पुष्टि करता हूं। दोनों ही मामलों में क्लिनिकल मानक प्रोटोकॉल के अनुसार ध्यान रखा जा रहा है और दोनों स्थिर हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है, चीजें नियंत्रण में हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।