Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

DHFL Crisis: 1 लाख FD होल्डर्स की बचत खतरे में, फ्रॉड के आरोपों में फंसी है कंपनी

कंपनी के लेंडर्स भी चिंता में पड़े हुए हैं क्योंकि उनका कंपनी के साथ 38,342 करोड़ का एक्सपोजर है
अपडेटेड Nov 01, 2019 पर 09:36  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Dewan Housing Finance Corp. Ltd (DHFL) पर फ्रॉड और फंड डायवर्जन के आरोप लगने के बीच लेंडर के 1 लाख फिक्स्ड डिपॉजिट होल्डर्स को अपने बचत की चिंता लगी हुई है। होल्डर्स को डर है कि इन आरोपों को झेल रही कंपनी के चक्कर में उनकी सेविंग्स भी चली जाएगी।


Livemint की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अकाउंटिंग फर्म KPMG की फोरेंसिक ऑडिट में फंड डायवर्जन का मामला सामने आया। यह रिपोर्ट कंपनी के लिए बहुत बुरी खबर है क्योंकि कंपनी अभी कई महीनों से रिजॉल्यूशन प्लान पर काम कर रही थी। कंपनी के लेंडर्स भी चिंता में पड़े हुए हैं क्योंकि उनका कंपनी के साथ 38,342 करोड़ का एक्सपोजर है। मामले में सरकार Serious Fraud Investigation Office (SFIO) को जांच करने को कहती है तो कंपनी के सारे रिपेमेंट फ्रीज कर दिए जाएंगे।


लेंडर्स के लिहाज से देखें तो वो कंपनी के 51 परसेंट स्टेक को लेकर कंपनी के कर्ज को इक्विटी में कन्वर्ट करने वाले थे। यह प्लान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के स्ट्रेस्ड असेट पर 7 जून को जारी किए गए सर्कुलर के तहत फाइनलाइज किया जा रहा था।


कंपनी के पास 6 जुलाई तक 6,188 करोड़ पब्लिक फिक्स्ड डिपॉजिट थे, जो मार्च, 2018 में 10,166.72 करोड़ थे। 21 मई से कंपनी ने नए पब्लिक डिपॉजिट एक्सेप्ट करना और पुराने डिपॉजिट्स का रिन्युअल करना बंद कर दिया था। कंपनी ने पुराने डिपॉजिट्स का प्रीमैच्योर विथड्रॉल भी बंद कर दिया था। इसके पीछे कंपनी ने अपना लायबिलिटी मैनेजमेंट रीऑर्गनाइज करने को वजह बताया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।