Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Trump In India: दुनिया के सबसे शक्तिशाली नेता डॉनल्ड ट्रंप को भारत यात्रा से क्या मिल रहा है?

ट्रंप जिस वक्त भारत की यात्रा पर आए हैं, उससे उन्हें क्या मिलेगा?
अपडेटेड Feb 25, 2020 पर 09:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप सोमवार को अपनी दो दिवसीय यात्रा पर भारत पहुंच रहे हैं। ट्रंप की यह पहली भारत यात्रा है, ऐसे में यह कई मायनों में अहम होने वाली है। सबसे बड़ा लोकतंत्र भारत इसे दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र अमेरिका के साथ मजबूत होते रिश्तों के तौर पर देख रहा है। भारत इस मौके पर दोनों देशों के बीच कई समझौतों पर पहुंचना चाहेगा। ट्रेड डील का तो नहीं पता लेकिन दोनों देशों के बीच 2.6 अरब डॉलर की डिफेंस डील होने वाली है। वहीं, टेक और इकॉनमी को लेकर भी दोनों देशों के बीच अहम बातचीत हो सकती है।


लेकिन असल सवाल यह है कि दुनिया के सबसे शक्तिशाली नेता ट्रंप को इस यात्रा से क्या हासिल होगा? ट्रंप जिस वक्त भारत की यात्रा पर आए हैं, उससे उन्हें क्या मिलेगा?


यहां जो बात सबसे ज्यादा ध्यान में रखने वाली है, वो ये है कि डॉनल्ड ट्रंप अपने कार्यकाल के सबसे आखिरी वक्त में भारत आ रहे हैं। नवंबर, 2016 के राष्ट्रपति चुनावों में राष्ट्रपति चुने गए ट्रंप इस साल फिर राष्ट्रपति चुनावों के लिए मैदान में उतरने वाले हैं। ऐसे में देखा जाए तो ट्रंप ने इन चार सालों के सबसे आखिरी चरण को भारत यात्रा के लिए चुना है।


हम एक बार उन फैक्टर्स पर नजर डाल रहे हैं, जो ट्रंप के लिए उनके लिहाज़ से अहम हो सकते हैं-


नवंबर में हो रहा राष्ट्रपति चुनाव


अमेरिका में इस साल नवंबर के महीने में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं। कंट्रोवर्शियल पर्सनैलिटी ट्रंप का यह टर्म भी काफी कंट्रोवर्शियल रहा है। यहां तक कि अभी-अभी ट्रंप इम्पीचमेंट यानी महाभियोग की प्रक्रिया से बरी हुए हैं। ट्रंप के लिए यह चुनाव ज़ाहिर तौर पर काफी अहम है। ट्रंप को इस ट्रिप से डोमेस्टिक पॉलिटिक्स में फायदा हो सकता है। ट्रंप का एजेंडा इस भारत यात्रा पर वहां के भारतीय-अमेरिकन समुदाय पर प्रभाव डालना होगा। अमेरिका में साढ़े चार लाख से ज्यादा भारतीय मूल के लोग रहते हैं। 2016 तक भारतीय अमेरिकियों का रुझान डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर रहा है।


National Asian American Survey की मानें तो 2016 के चुनावों में बस 16% भारतीय अमेरिकन्स ने ट्रंप को वोट दिया था। जाहिर है ट्रंप इस बार यह नंबर बदलना चाहते हैं क्योंकि भारतीय अमेरिकन वोटर्स वहां धीरे-धीरे बड़ा पॉलिटिकल फोर्स बन रहे हैं। इसीलिए ट्रंप पिछले साल सितंबर में ह्यूस्टन टेक्सस में हुए Howdy Modi इवेंट में पीएम मोदी के साथ खड़े हुए नजर आए थे।


साथ ही इस ट्रिप से ट्रंप अमेरिकन वोटर्स के सामने अपनी अच्छी इमेज प्रोजेक्ट कर सकेंगे। ट्रंप के टर्म के आखिरी फेज़ में ऐसी खबरें आई हैं, कुछ ऐसे पोल्स हुए हैं, जिसमें कहा गया है कि ट्रंप की वजह से इंटरनेशनल स्टेज पर अमेरिका की इमेज खराब हुई है। इस धारणा को ट्रंप भारत में हुए अपने इस ग्रैंड वेलकम से बदलना चाहेंगे।


अगला बड़ा फैक्टर है चीन


चीन और अमेरिका के बीच तल्खियां बढ़ी हैं। ट्रंप चीन पर अपनी इस सख्ती की ब्रांडिंग करते रहे हैं। ऐसे में जाहिर है कि एशिया रीज़न में उन्हें चीन का मुकाबला करने वाला कोई दोस्त चाहिए, जो उन्हें भारत में दिख सकता है। ये दूसरा सवाल हो सकता है कि भारत अमेरिका को चीन के मुकाबले कितना फायदा पहुंचा सकता है।


अमेरिका एशिया रीज़न में चीन की बढ़ते प्रभाव को भारत की मदद से कम करना चाहेगा, जिसके लिए यह प्रोजेक्शन जरूरी होगा।


इमेज प्रोजेक्शन


ट्रंप अपनी इमेज को लेकर बहुत सतर्क रहते हैं। ट्रंप का एक मोटो रहा है कि उनके रिश्ते विदेशी नेताओं से अच्छे रहें ताकि वो अपने हिसाब से डील कर सकें। पीएम मोदी के साथ रिश्ते मजबूत करना उनके इस मोटो का हिस्सा हो सकता है।


ट्रेड फ्रंट पर दोनों देशों के बीच कुछ खास होने की संभावना नहीं है, लेकिन यह ऐसा मैटर है, जिसमें छोटी डील या पैकेज पर समझौता करके भी यह दिखाया जा सकता है कि अमेरिका दोनों देशों के रिश्तों को लेकर सीरियस है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।