Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

AGR कैलकुलेशन पर टेलीकॉम फर्मों को देना होगा सबूत, DoT ने मांगे सपोर्टिंग पेपर्स

टेलीकॉम कंपनियों ने जो DoT को अपनी जो सेल्फ असेसमेंट की कॉपी सौंपी है, वो DoT के नंबरों से मैच नहीं हो रही है
अपडेटेड Feb 25, 2020 पर 10:31  |  स्रोत : Moneycontrol.com

टेलीकॉम कंपनियों को टेलीकॉम डिपार्टमेंट (Department of Telecommunications-DoT) की ओर से नया नोटिस मिला है। डिपार्टमेंट ने कंपनियों से एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (Adjusted Gross Revenue- AGR) के उनके कैलकुलेशन को सपोर्ट करते हुए डॉक्यूमेंट्स मांगे हैं। दरअसल, कंपनियों की ओर से जो AGR का सेल्फ असेसमेंट किया गया है, उसके आंकड़े डिपार्टमेंटट के नंबरों से नहीं मिल रहे हैं। कंपनियों ने बकाए की रकम कुछ बताई है और DoT  के पास कुछ अलग ही नंबर हैं। टेलीकॉम कंपनियों ने जो DoT को अपनी जो सेल्फ असेसमेंट की कॉपी सौंपी है, वो DoT के नंबरों से मैच नहीं हो रही है।


livemint की खबर के मुताबिक, DoT ने टेलीकॉम कंपनियों से AGR के सेल्फ असेसमेंट की पुष्टि करने वाले दस्तावेज जमा करने के लिए कहा है, जिसके आधार पर उन्होंने अपने ऊपर बकाए का कैलकुलेशन किया है।


रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया है कि कंपनियों के दस्तावेज जमा करने से DoT को टेलीकॉम कंपनियों की ओर से किए गए AGR कैलकुलेशन की जांच करने में मदद मिलेगी।


उन्होंने बताया कि सभी तीन टेलीकॉम कंपनियों Bharti Airtel, Vodafone Idea, Tata Teleservices से उनके AGR के सेल्फ असेसमेंट के दावों की पुष्टि में दस्तावेज जमा करने के लिए कहा गया है। वैसे ये तीनों ही बकाए की रकम का कुछ हिस्सा चुकी हैं।


सुप्रीम कोर्ट ने 24 अक्टूबर को अपने एक फैसले में department of telecommunications (DoT) के AGR की परिभाषा को मान्य ठहराया था और टेलीकॉम कंपनियों को लाइसेंस फीस और स्पेक्ट्रम यूज़ के चार्ज का बकाया चुकाने का आदेश दिया था। फिलहाल भारती एयरटेल ने 17 फरवरी को 10,000 करोड़ चुका दिए हैं, बाकी की रकम वो 17 मार्च से पहले चुका सकता है। वहीं, वोडाफोन-आइडिया ने भी 20 फरवरी तक 3500 करोड़ चुका दिए हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।