Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

J&K गए EU के सांसदों ने कहा- कश्मीर भारत का अंदरूनी मामला, आंतकवाद के खिलाफ लड़ाई में साथ हैं

घाटी के दो दिवसीय दौरे के अंतिम दिन यूरोपीय संसद के 23 सांसदों के डेलीगेशन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया
अपडेटेड Oct 31, 2019 पर 09:27  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जम्मू-कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर आए European Union (EU) के सांसदों ने बुधवार को कहा कि Article 370 भारत का आंतरिक मामला है और ग्लोबल टेरेरिज्म के खिलाफ लड़ाई में वह देश के साथ खड़े हैं। विपक्ष की नाराजगी और आलोचनाओं के बीच 23 ईयू सांसदों के डेलीगेशन का यह दौरा आज खत्म हो गया।


घाटी के दो दिवसीय दौरे के अंतिम दिन यूरोपीय संसद के 23 सांसदों के डेलीगेशन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया, जिसमें उन्होंने आतंकवादियों की ओर से मंगलवार को पश्चिम बंगाल के पांच मजदूरों की हत्या किए जाने की घटना की निंदा भी की।


पश्चिम बंगाल के पांच प्रवासी मजदूरों की मंगलवार को कुलगाम जिले में आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना में एक अन्य मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गया था जिसने बुधवार को दम तोड़ दिया।


फ्रांस के हेनरी मेलोसे ने कहा- अनुच्छेद 370 की बात करें, तो यह भारत का आंतरिक मामला है। हमारी चिंता का विषय आतंकवाद है जो दुनियाभर में परेशानी का सबब है और इससे लड़ाई में हमें भारत के साथ खड़ा होना चाहिए। आतंकवादियों ने पांच निर्दोष मजदूरों की हत्या की। यह घटना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है और हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं।


यूरोपीय आर्थिक व सामाजिक समिति के पूर्व अध्यक्ष मेलोसे ने बताया कि सेना और राज्य पुलिस ने उन्हें स्थिति की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उनकी बात यूथ एक्टिविस्ट्स से भी हुई, जिनसे शांति बहाल करने को लेकर बातचीत हुई।


बता दें कि इस डेलीगेशन में शामिल 23 सांसदों में से कई सांसद धुर दक्षिणपंथी यानी फार-राइट या फिर दक्षिणपंथी दलों यानी राइट विंग पार्टियों के हैं और अपने-अपने देशों में मुख्यधारा का हिस्सा नहीं हैं। उनका दौरा विवादों में घिर गया है। इस यात्रा के खर्च को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। कुछ खबरों में कहा गया है कि यात्रा का आयोजन एक गैर सरकारी संगठन ने इस वादे के साथ किया था कि सांसदों की मुलाकात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से होगी।


पोलैंड के सांसद रेजार्ड जारनेकी ने कहा कि उन्हें ऐसा लगता है कि कश्मीर के बारे में इंटरनेशनल मीडिया ने जो दिखाया वह पक्षपातपूर्ण था। उन्होंने कहा- हमने जो देखा है, अपने देश लौटकर हम उसकी जानकारी देंगे। ब्रिटेन में लिबरल डेमोक्रेट पार्टी के न्यूटन डन ने इसे आंखे खोलने वाला दौरा बताया।


डन ने कहा- हम यूरोप से आते हैं, जो सालों के संघर्ष के बाद अब शांति वाली जगह है। हम भारत को दुनिया का सबसे शांतिपूर्ण देश बनता देखना चाहते हैं। इसके लिए जरूरत है कि वैश्विक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हम भारत के साथ खड़े रहें। यह दौरा आंखें खोलने वाला रहा है और जो कुछ हमने ग्राउंड जीरो पर देखा है हम उस पर अपनी बात रखेंगे।


फ्रांस के ही एक अन्य सांसद थियेरी मारियानी ने मीडिया को बताया कि वह पहले भी कई बार भारत आ चुके हैं और यह दौरा भारत के आंतरिक मामले में दखल देने के लिए नहीं है बल्कि कश्मीर में जमीनी हालात के बारे में प्रत्यक्ष जानकारी लेने के लिए किया गया है।


उन्होंने कहा- आतंकवादी एक देश को बरबाद कर सकते हैं। मैं अफगानिस्तान और सीरिया जा चुका हूं और आतंकवाद ने वहां जो किया है वह देख चुका हूं। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हम भारत के साथ खड़े हैं।


मारियानी ने कहा- हमें फासीवादी कहकर हमारी छवि को खराब किया गया। बेहतर होता कि हमारी छवि खराब करने से पहले हमारे बारे में अच्छे से जान लिया गया होता।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।