Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Exclusive : राष्ट्रीय शिक्षा नीति को जल्द ही अंतिम रूप देने की तैयारी – रमेश पोखरियाल

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पखरियाल निशंक ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को जल्द ही अंतिम रूप देने की तैयारी चल रही है।
अपडेटेड Aug 12, 2019 पर 13:39  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में तेजी से बदलाव लाने की कवायद शुरु है। शिक्षा विभाग के घिसे-पिटे तंत्र को दुरुस्त करने के लिए मोदी सरकार शिक्षा नीति 2019 को अंतिम रूप देने के लिए तेजी से तैयारी में जुटी हुई है।


IIT Bombay में दीक्षांत समारोह के दौरान Moneycontrol से हुई खास बातचीत पर मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा कि वो अभी राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर विचार विमर्श में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमें राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर जनता से अब तक 1,50,000 से अधिक सुझाव मिले हैं। कुल मिलाकर सभी प्रतिक्रियाएं बेहद सकारात्मक हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति को अंतिम रूप देने के लिए  तेजी से प्रयास कर रहे हैं।
National Education Plan 2019 (राष्ट्रीय शिक्षा नीति योजना 2019) का यह Draft न केवल भारत में, बल्कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय में भी शिक्षा की व्यवस्था में दूरगामी परिवर्तन का प्रस्ताव है।



इसमें सबसे बड़ा बदलाव तो यह है कि सबसे पहले मंत्रालय का नाम बदल दिया जाएगा। जिसमें मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदल कर शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) रखा जाएगा। यह नाम बदलने की प्रकिया 2019 में ही की जानी है। 


अन्य मामलो में पोखरियाल ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय शिक्षण संस्थानों की घरेलू रेंकिंग पर भरोसा करके भारत को आत्मनिर्भर बनाना चाहता है। पोखरियाल ने कहा कि अभी तक सभी स्टेकहोल्डर्स ने इस मसौदे की सरहाना की है। उन्होंने आगे कहा कि हमें बेहद दिलचस्प टिप्पणी मिली है। इस नई राष्ट्रीय शिक्षी नीति में भारत की तकदीर बदलने की क्षमता है।



पहले Skilling  जैसे सेक्टर MHRD का हिस्सा थे। अब दो मंत्रालय अलग से बनाए जाएंगे जिसमें Skill Development के लिए एक मंत्रालय होगा, जबकि दूसरा Entrepreneurship के लिए अलग से बनाया जाएगा। MHRD  सिर्फ देश में Education System  से संबंधित पहलुओं पर ध्यान देगा।
  
पोखरियाल ने आगे कहा कि सभी के विचारों पर ध्यान दिया जाएगा। हमारा मकसद है कि नई शिक्षा नीति सबके लिए हो, जिससे सबका फायदा हो। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (@moneycontrolhindi) और Twitter (@MoneycontrolH) पर फॉलो करें.