Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

रघुराम राजन और मनमोहन सिंह के वक्त में सबसे बुरे दौर में थे PSU Banks: FM सीतारमण

सीतारमण ने कहा कि रघुराम राजन के कार्यकाल में नेताओं के एक फोनकॉल पर लोन बांटे गए
अपडेटेड Oct 16, 2019 पर 16:21  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा है कि देश के रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कार्यकाल पब्लिक सेक्टर बैंकों के लिए सबसे बुरा दौर था। उन्होंने कहा कि पब्लिक सेक्टर के सभी बैंकों को आज लाइफलाइन देना उनकी ड्यूटी है।


न्यूयॉर्क के Columbia Universitys School of International and Public Affairs में मंगलवार को एक लेक्चर देते हुए सीतारमण ने कहा कि भारत के सरकारी बैंकों ने मनमोहन सिंह के कार्यकाल में जब रघुराम राजन आरबीआई गवर्नर थे, उस वक्त में सबसे बुरा दौर देखा है।


अपने लेक्चर के दौरान सीतारमण ने कहा- मैं रघुराम राजन का एक विद्वान के तौर पर सम्मान करती हूं। उन्होंने ऐसे वक्त में केंद्रीय बैंक में काम किया, जब इंडियन इकोनॉमी बहुत अच्छी स्थिति में थी।


उन्होंने कहा कि उनके कार्यकाल में ही नेताओं के एक फोन कॉल पर ही लोन बांट दिए गए और इस जाल से निकलने के लिए पब्लिक सेक्टर बैंक आज तक इक्विटी इन्फ्यूज़न के लिए सरकार पर निर्भर हैं।


उन्होंने कहा- डॉक्टर मनमोहन सिंह उस वक्त प्रधानमंत्री थे और मैं निश्चित हूं कि डॉक्टर राजन इससे सहमत होंगे कि डॉक्टर सिंह के पास भारत को लेकर एक निरंतर स्पष्ट विज़न या योजना थी।


उनका निशाना रघुराम राजन के उस बयान पर था, जो कुछ दिन पहले उन्होंने ब्राउन यूनिवर्सिटी में दिया था। उनका कहना था कि मोदी सरकार के पास इंडियन इकोनॉमी में ग्रोथ लाने के लिए कोई निरंतर स्पष्ट विज़न नहीं है।


उन्होंने पूर्व गवर्नर पर टिप्पणी करते हुए कहा- मैं आभारी हूं कि उन्होंने इकोनॉमी का क्वालिटी रिव्यू किया लेकिन लोगों को पता होना चाहिए कि इन बैंकों की ये हालत आखिर है क्यों। यह समस्या आई विरासत में कहां से मिली है।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।