Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

आपकी जासूसी करते थे ये Apps, Google ने प्लेस्टोर से हटाया

ये ऐप्स यूजर का लोकेशन ट्रैक कर रहे थे, उनके कॉन्टैक्ट्स, SMS और कॉल हिस्ट्री चुरा रहे थे।
अपडेटेड Jul 18, 2019 पर 13:06  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Google ने प्लेस्टोर से ऐसे सात ऐप्स हटाए हैं, जिनपर यूजर्स का डेटा चुराने का शक है। ये ऐप्स चिल्ड्रेन्स सेफ्टी या चोरी गए फोन की ट्रैकिंग करने वाले थे लेकिन इसके बहाने ये यूजर्स को स्टॉक कर रहे थे और उनका डेटा चुरा रहे थे।


ये ऐप्स यूजर का लोकेशन ट्रैक कर रहे थे, उनके कॉन्टैक्ट्स, SMS और कॉल हिस्ट्री चुरा रहे थे।


CNBC की खबर के मुताबिक, एंटीवायरस डेवलप करने वाली कंपनी Avast को प्लेस्टोर पर इन ऐप्स के बारे में पता चला, जिसके बाद उसने इसकी जानकारी गूगल को दी। जानकारी मिलने पर गूगल ने इन ऐप्स को प्लेस्टोर से हटा दिया है। Avast ने पता लगाया है कि संभावना है कि ये सारे ऐप किसी रशियन डेवलपर ने डिजाइन किए हैं।


इन सभी ऐप्स को कुल मिलाकर 13 लाख से ज्यादा बार इंस्टॉल किया जा चुका है। इनमें से Spy Tracker SMS Tracker दो ऐसे ऐप हैं, जिन्हें 50,000 से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है।


Avast  के हेड ऑफ मोबाइल थ्रेट इंटेलीजेंस एंड सिक्योरिटी निकोलाओस क्रिसाइडोस ने कहा कि ये ऐप्स पूरी तरह से यूजर्स के प्रति अनैतिक और समस्या पैदा करने वाले थे। इन्हें गूगल प्लेस्टोर पर बिल्कुल नहीं होना चाहिए। ये क्रिमिनल बिहेवियर को प्रमोट करते हैं और दूसरों के लिए नुकसानदायक हैं।


कैसे काम करते हैं ये स्टॉकरवेयर ऐप्स?


अगर आपको कोई स्टॉक करना चाहता है तो उसके पास आपके फोन का एक्सेस होना चाहिए। वो आपके फोन में प्लेस्टोर ऐसा कोई स्पाई ऐप डाउनलोड कर देगा। आपको पता नहीं चलेगा कि आपके फोन में ऐसा कोई ऐप डाउनलोड हुआ है क्योंकि आपके फोन में ऐसे किसी ऐप का आइकन ही नहीं दिखेगा।


ये ऐप इंस्टॉल करने के बाद स्टॉकर को अपना ईमेल एड्रेस और पासवर्ड भेजना होगा, जिसपर उसे स्पाईंग ऐप भेज दिया जाएगा और टारगेट को पता भी नहीं चलेगा कि उसको उसके फोन में ही इंस्टॉल किसी ऐप से स्टॉक किया जा रहा है।