Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

अब H1B-Visa के रजिस्ट्रेशन पर लग सकती है 10 डॉलर की फीस

यह फीस अप्रैल, 2020 से शुरू होने वाले रजिस्ट्रेशन प्रोसेस पर लगेगी
अपडेटेड Sep 05, 2019 पर 16:37  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अब US के लिए H1-B Visa के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने पर एप्लीकेंट्स को रजिस्ट्रेशन फीस देनी पड़ सकती है। अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी (DHS) ने बुधवार को H1-B कैप सेलेक्शन प्रोसेस के नए एप्लीकेशंस पर 10 डॉलर की रजिस्ट्रेशन फीस लगाने का प्रस्ताव दिया है।


यह फीस H1-BVisa के लिए अप्लाई कर रहे किसी भी एंप्लॉयर की ओर से होने वाले इलेक्ट्रॉनिक रजिस्ट्रेशन पर लगेगी। यह फीस अप्रैल, 2020 से शुरू होने वाले रजिस्ट्रेशन प्रोसेस पर लगेगी।


इस नए सिस्टम में सभी एंप्लॉयर्स को इलेक्ट्रॉनिक फाइलिंग सिस्टम को फॉलो करना होगा, ताकि फ्रॉड से बचा जा सके।


पहले आशंका जताई जा रही थी कि रजिस्ट्रेशन फीस ज्यादा होगी लेकिन DHS ने 10 डॉलर का प्रस्ताव दिया है। यह अमाउंट H1B वीजा लेने वाली IT कंपनियों- जैसे (TCS या Cognizant) पर बहुत बोझ नहीं बनेगा। यह फीस Microsoft, Apple, Google और Amazon जैसी प्रॉडक्ट बेस्ड कंपनियों को भी देना होगा।


बता दें कि वर्तमान में H1-B के एप्लीकेशन प्रोसेस में पहले से कई तरह की फीस देनी होती है। आमतौर पर एप्लीकेंट्स को एक एप्लीकेशन पर लगभग 6,000 डॉलर तक की फीस देनी होती है।


DHS का अनुमान है कि सालाना 192,918 कैप-सब्जेक्ट रजिस्ट्रेशन होते हैं, तो इसके हिसाब से रजिस्ट्रेशन फीस के चलते 1,929,180 डॉलर का रेवेन्यू जेनरेट होगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।