Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

ICICI-Videocon Case: चंदा कोचर और उनके पति फिर हुए ED के सामने पेश

प्रकाशित Tue, 14, 2019 पर 17:19  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर आईसीआईसीआई-वीडियोकॉन बैंक कर्ज धोखाधड़ी और मनी लॉन्डरिंग से जुड़े मामले में मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने फिर पेश हुए। सोमवार को भी दोनों से ईडी ने आठ घंटे से अधिक तक पूछताछ की थी।


हालांकि, ये अभी पता नहीं चल पाया है कि ईडी ने सोमवार को दोनों से किस तरह के सवाल किए। सूत्रों के हवाले से कहा गया कि उनसे वीडियोकॉन ग्रुप के साथ व्यक्तिगत और आधिकारिक लेनदेन को लेकर पूछताछ की गई। उन्होंने कहा कि दोनों के बयान प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्डरिंग, 2002 के तहत दर्ज किए गए। उन्होंने कहा कि कोचर दंपति को इस महीने की शुरुआत में जांच एजेंसी के सामने पेश होना था लेकिन उन्होंने इसके लिए और समय मांगा था जिसकी मंजूरी दे दी गई थी।


बता दें कि ईडी ने दीपक कोचर के भाई राजीव कोचर से इस मामले में कई बार पूछताछ की है।


राजीव कोचर सिंगापुर की कंपनी एविस्टा एडवाइजरी के संस्थापक हैं और सूत्रों का कहना है कि सीबीआई ने कर्ज के रिस्ट्रक्चरिंग में उनकी कंपनी की भूमिका के बारे में उनसे पूछताछ की थी।


ईडी ने इस साल की शुरुआत में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर, धूत और अन्य के खिलाफ आईसीआईसीआई बैंक की ओर से वीडियोकॉन समूह को 1,875 करोड़ रुपए के कर्ज को मंजूरी देने के मामले में कथित अनियमितताओं और भ्रष्टाचार की जांच के लिए पीएमएलए के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया था।


सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कराया था, जिसके आधार पर ईडी ने कार्रवाई की थी। सीबीआई ने इस मामले में इन तीनों और धूत की कंपनियों- वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड के खिलाफ केस दर्ज किया था।


सीबीआई के एफआईआर में सुप्रीम एनर्जी और दीपक कोचर के नियंत्रण वाली न्यूपावर रीन्यूएबल्स का भी नाम है। सुप्रीम एनर्जी की स्थापना धूत ने की थी।


सेंट्रल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी ने सभी आरोपियों के खिलाफ आपराधिक षड्यंत्र, धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।