Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

IL&FS क्राइसिस के चलते सोमवार से नहीं दौड़ेगी गुरुग्राम की Rapid Metro!

कंपनी पिछले कुछ वक्त से घाटे में चल रही है और आगे ऑपरेट करने में सक्षम नहीं है
अपडेटेड Sep 07, 2019 पर 16:05  |  स्रोत : Moneycontrol.com

गुरुग्राम में चलने वाला भारत का पहला प्राइवेटली फाइनेंस्ड रैपिड मेट्रो सिस्टम बंद होने की कगार पर है। इसके पीछे IL&FS क्राइसिस वजह है। IL&FS इंफ्रास्ट्रक्चर ने ही इस सिस्टम को खड़ा किया है।


अनियमितताओं में घिरी IL&FS के चलते गुरुग्राम की यह रैपिड मेट्रो सोमवार यानी 9 सितंबर से बंद हो सकती है।


कंपनी के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी पिछले कुछ वक्त से घाटे में चल रही है और आगे ऑपरेट करने में सक्षम नहीं है।


प्रवक्ता ने कहा- हमने हरियाणा सरकार को लिखा है कि कंपनी 9 सितंबर से सर्विस चालू नहीं रख सकती है। हमने सरकार से यह सर्विस टेकओवर करने को कहा है। अब हम जवाब का इंतजार कर रहे हैं।


लेकिन यह मामला इतनी आसानी से सुलझता हुआ नहीं दिख रहा है। बात नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) के पास अटकती दिख रही है। गुरुग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (GMDA) के सीईओ वी. उमा शंकर ने बताया कि यह मामला NCLT के पास पेंडिंग है। जबतक वहां से कोई फैसला नहीं आता, GMDA मेट्रो को टेकओवर नहीं कर सकता।


बता दें कि यह रैपिड मेट्रो सिस्टम IL&FS इंफ्रास्ट्रक्चर ने दो फेज़ में बनाया था। पहले फेज़ में कंपनी ने 5.1 किमी का एलिवेटेड ट्रैक बनाया, जिसमें शंकर चौक से नेशनल हाईवे-8 को सिकंदरपुर DMRC स्टेशन से जोड़ा गया। इस रूट पर छह स्टेशन कवर किए गए।


यह सिस्टम तीन सालों में 1,450 करोड़ की लागत पर बना था। इसे नवंबर, 2013 में पब्लिक के इस्तेमाल के लिए खोल दिया गया।


लेकिन चूंकि गुड़गांव की अधिकतर कंपनियां अपने कर्मचारियों को दोनों तरफ से कैब प्रोवाइड कराती हैं और दिल्ली मेट्रो के मुकाबले रैपिड मेट्रो सिस्टम का किराया कहीं ज्यादा होने चलते, रैपिड मेट्रो को उतने कम्यूटर्स नहीं मिले हैं, जितनी उम्मीद की गई थी। गुरुग्राम जाने वाले 200,000 कम्यूटर्स में बस लगभग 15,000 ने ही रैपिड मेट्रो को अपनाया।


दूसरे फेज में 6.6 किमी का रूट बनाया गया, जो सिकंदरपुर से गोल्फ कोर्स रोड से होते हुए सेक्टर 56 जाती है। यह रूट दिसंबर 2016 में 2,143 करोड़ में बनकर तैयार हुआ। इसे मार्च, 2017 में खोला गया। यह रूट बनने के बाद भी राइडरशिप प्रतिदिन 50,000 यात्रियों तक ही बढ़ पाई।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।