Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

अगस्त में मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ घटकर 15 महीनों के निचले स्तर पर: PMI

मैन्युफैक्चरिंग की कमजोर ग्रोथ का यह आंकड़ा ऐसे समय में आया है जब जून तिमाही में GDP की ग्रोथ घटकर 5 फीसदी पर आ गई है
अपडेटेड Sep 03, 2019 पर 10:27  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। अगस्त में इस सेक्टर की ग्रोथ पिछले 15 महीनों में सबसे कम रही है। लागत बढ़ने और डिमांड घटने की वजह से मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ में कमी आई है। सोमवार को जारी IHS मार्किट के निक्केई मैन्युफैक्चरिंग परचेज मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) के सर्वे के मुताबिक,


मैन्युफैक्चरिंग की कमजोर ग्रोथ का यह आंकड़ा ऐसे समय में आया है जब जून तिमाही में GDP की ग्रोथ घटकर 5 फीसदी पर आ गई है। इससे पहले मार्च तिमाही में GDP की ग्रोथ 5.7 फीसदी थी। जुलाई में PMI इंडेक्स घटकर 51.4 पर आ गया है।


इससे पहले यह जुलाई में 52.5 पर था। हालांकि अभी भी यह 50 से ऊपर है। इंडेक्स जब 50 से नीचे आ जाता है तो माना जाता है कि इंडस्ट्री में मंदी आ गई है। वैसे इनफ्लेशन अभी भी RBI के मीडियम टर्म टारगेट 4% से नीचे हैं। ऐसे में उम्मीद है कि अक्टूबर में RBI इकोनॉमी की ग्रोथ बढ़ाने के लिए फिर रेट कट कर सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।